A Poetry/Book writer, Trainer cum Motivational Speaker, A Professional and above all - A True Indian(Keeping Nationalism in heart)!

जिनकी सोच मर चुकी हो,
वो मातम की बातें करते हैं

जिनकी सोच में जीवन हो,
उनके सामने,
यमराज भी सजदा करते हैं।

- अभिषेक शर्मा

Read More

"सुबह का भूला यदि शाम को घर आ जाए तो उसे भूला नहीं कहते"। आज इस कहावत को उन्नयन करने का समय आ गया है। तो कुछ यूं कहा जाए कि-

"सुबह से याद रखकर शाम तक घर में रहने वाले को,भूला नहीं कहते"।
"IF U WANT TO DEFEAT #coronavirus then DON'T STEP OUT FRM UR "DOOR - SILL"!

#Covid_19

- Abhishek Sharma

Read More

चलाओ ना अखियों से गोली
आकर खेलो हमारे संग होली
भूल जाओ अब शब्दों की बोली
कर लो रंगों की हमसे ठिठोली
कटिले नैनन हैं, सूरत है भोली
मूरत ऐसी है, जैसे पहेली

देखो बच ना पाए, हां हां बच ना पाए...(2)
घर से निकले जब, हां हां घर से निकले जब
अरे घर से निकले जब
पड़ोसन और उसकी सहेली

आकर खेलो हमारे संग होली
चलाओ ना.....खेलो हमारे संग होली

देखो आयी है यहां, हां हां अायी है यहां
देखो आयी है यहां, हां हां अायी है यहां
भाभी हमारी नई - नवेली
भर के मारो पिचकारी, खेलो होली
भर के मारो पिचकारी, खेलो होली
चलाओ ना.......खेलो हमारे संग होली।

Read More

आजकल में किसी का स्टेट्स नहीं देखता,

क्योंकि, मैं अपना स्टेट्स बनाने में व्यस्त हूं।👍

शाम।

epost thumb

जब - जब वतन पर आंच आएगी
खून सभी का खोलेगा

पुलवामा हो या हो कारगिल
शहादत कोई ना भूलेगा

बात आएगी जब आन पर
हर देश का बेटा, मोर्चा खोलेगा

मां के लाल जब निकलेंगे शहादत देने
सारा आलम, रंग - दे - बसंती हो लेगा

पुलवामा हो या हो कारगिल
शहादत कोई ना भूलेगा।

- अभिषेक शर्मा

Read More

Hug Day Special!

तुम कुछ ऐसे लगो मुझे गले.........

epost thumb

"बातें"

epost thumb

"झूठी हंसी"

epost thumb

"महखाना"

epost thumb