Lawyer,Author, Poet, Mob:9990389539 Listen my Poem at:https://www.youtube.com/channel/UCCXmBOy1CTtufEuEMMm6ogQ?view_as=subscriber

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-31

जिद चाहे सही हो या गलत  यदि उसमें अश्वत्थामा जैसा समर्पण हो तो उसे पूर्ण होने से कोई रोक नहीं सकता, यहाँ तक कि महादेव भी नहीं। जब पांडव पक्ष के बचे हुए योद्धाओं की रक्षा कर रहे जटाधर को अश्वत्थामा ने यज्ञाग्नि में अपना सिर काटकर हवनकुंड में अर्पित कर दिया  तब उनको भी अश्वत्थामा के हठ की आगे झुकना पड़ा और पांडव पक्ष के बाकी बचे हुए योद्धाओं को अश्वत्थामा के हाथों मृत्यु प्राप्त करने के लिए छोड़ दिया ।

Read More

09.01.2022:Today I again finished more than 21 KM walking in a day.

#halfmarathon
#walker
#runners
#fitnessmotivation

This existence is regulated by strict orderly  pattern and discipline. A Man,on the contrary, by his very own nature desires freedom from everything ,be it any kind of control, discipline, rules, order or regulation etc. He treats the same as different types of bondages. In such a scenario , Conflict between a man and the existence is bound to happen.

Read More

अनगिनत शक्तिशाली महान राष्ट्रों को धराशायी करते हुए ,मानव के स्वछंदिता, संप्रभुता एवं अहम भाव को अनुशासित, मर्यादित करते हुए और शोक संदेशो से भरे हुए गुजरे साल की अच्छी बात ये है कि बुरे वक्त को भी बीत जाना होना है और ये भी बीत गया।

Read More

In many cases, a man is willing to apologize for something he has done wrong, but his ego stands in the way. What could be the result of this, except regretting the mistake?

#Kavita #Duryodhana #Ashvatthama #Kritvarma #Kripacharya #Mahabharata #Mahadev #Shiv #Rudra #कविता #दुर्योधन #महादेव #अश्वत्थामा #महाभारत #कौरव #पांडव #कृतवर्मा #कृपाचार्य #शिव

अश्वत्थामा दुर्योधन को आगे बताता है कि शिव जी के जल्दी प्रसन्न होने की प्रवृति का भान होने पर वो उनको प्रसन्न करने को अग्रसर हुआ । परंतु प्रयास करने के लिए मात्र रात्रि भर का हीं समय बचा हुआ था। अब प्रश्न ये था कि इतने अल्प समय में शिवजी को प्रसन्न किया जाए भी तो कैसे?

Read More

The kind of decision you take in your life,  determines the kind of life you're destined for? Is it more important to enhance your phoney ego or to have job satisfaction in your life? What do you prefer: looking at others or working on improving yourself? Between obsession and passion, what should you choose? It's absolutely your decision what to decide.

Read More

महाकाल क्रुद्ध होने पर कामदेव को भस्म करने में एक क्षण भी नहीं लगाते तो वहीं पर तुष्ट होने पर भस्मासुर को ऐसा वर प्रदान कर देते हैं जिस कारण उनको अपनी जान बचाने के लिए भागना भी पड़ा। ऐसे महादेव के समक्ष अश्वत्थामा सोच विचार में तल्लीन था।

Read More

#Art_of_talk #Art_of_speech #Art_of_life #Life_style #Way_of_life #Thoughtful_living #Spiritual_poem #Poetry

What purpose will it serve if your talk , instead of pacifying someone's mind, is creating ripples of worries? What is use of your thought if no one gets any benefit out of it? Just be watchful whether you go for a talk only because you need a companion while you walk, Or is your talk making someone happy . It is really worthy to talk only in case you making someone laugh.

Read More

#Kavita #Duryodhana #Ashvatthama #Kritvarma #Kripacharya #Mahabharata #Mahadev #Shiv #Rudra   #कविता #दुर्योधन #महादेव #अश्वत्थामा #महाभारत #कौरव #पांडव #कृतवर्मा #कृपाचार्य #शिव


दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-28


जब अश्वत्थामा ने अपने अंतर्मन की सलाह मान बाहुबल के स्थान पर स्वविवेक के उपयोग करने का निश्चय किया, उसको  महादेव के सुलभ तुष्ट होने की प्रवृत्ति का भान तत्क्षण हीं हो गया। तो क्या अश्वत्थामा अहंकार भाव वशीभूत होकर हीं इस तथ्य के प्रति अबतक उदासीन रहा था?

Read More