I LOVE INDI@

શ્વાસ લેવાનું અને છોડવા નું કારણ તું છે
અને તું મને પુછે છે મારું જીવવા નું કારણ શું છે?
Dip@li

मोहब्बत से धायल तो बहुत देखे है हमने
पर जो मोहब्बत को धायल कर दे उनकी तलाश में हैं हम
Dip@li

आंखों में सो सवालों के साथ आईं थीं वो,
हजारों का तो जवाब भी लाई थी वो
उन्ही आंखों में दरीया भी भर आई थी वो,
बस पलकें झुका ते ही दरिया बहाने वाली थी वो
अपने होंठों को तो जेसे रिश्वत देके आई थी वो
,अगर कुछ बोले तो अपने ही दरिया में डुबो देगी वो,

हम तो खड़े थे वहां जहां अपनी खुशबु फेला के गइ थी वो
मालूम तो तब पड़ा जब हमारा हाल कुछ अपने सा कर गई वो

तब पता चला असल में अपना हाल हमें देने आई थी वो

Dip@li

Read More

तारिफ ए इश्क हम कर न सके
मोहब्बत तो थी बेमिसाल पर हम कबूल न सके।

आज मेने आधि खूल्लि सी उस खिड़की को भी बंद कर दिया

जहां से कभी मैं तेरा इंतज़ार किया करती थी
आज वो खिड़की भी मुझपे
हस रही थी
Dip@li

Read More

बहुत मुश्किल से करता हूं
तेरी यादों का कारोबार
मुनाफा कम है
पर गुजारा हो ही जाता है

#"गुलजार"#

ए कलम न जाने आज तु क्यू मुझे
फीकी फीकी सी लग रही है

लगता है तुझपे भी तेरे कागज़ ने
अपनी बेवफाई का ईन्झाम थोपा है।
Dip@li

Read More

आज आयने को बहुत बार साफ किया
फिर भी सब धुंधला दिखाई दे रहा था
तब मैंने आईने से सिकायत की
आयना भी हस कर बोला
पहले अपने आंसु लूच..

Dip@li

Read More

આજે તો નક્કી જ હતું
તારા વિશે વિચારવું જ નથી
છતાં પણ એ વિચારમાં તું આવી ગયો...




Dip@/i......

हवाओ ने भी न जाने
आज केसा केहेर बरसाया है
जीतना भी रोकू इस पतंग को
इसे तेरे घर पर ही आना है।
Dip@li