×

दिल के जज़्बात.. शायरी के साथ.️..जय महाकाल ️ॐ महादेव के भक़्त हैं..इरादों के सख़्त हैं...Teacher ️

बिन धागे की सुई सी बन गयी है ज़िन्दगी..!

सिलती कुछ नहीं.. बस चुभती चली जा रही है..!

भूलकर हमें अगर तुम रहते हो सलामत,
तो भूलके तुमको संभलना हमें भी आता है,

जिंदगी के
किसी मोड़ पर 
अगर तुम
लौट भी
आये तो क्या...?

अब
वो लम्हें
वो जज्बात, 
वो अंदाज तो
ना लौटेंगे कभी..

इश्क में वादा निभाना कोई आसान नहीं..

करके पछताओगे, इकरार बहुत महंगा है।

मेरी तमाम फ़िक्रों की अकेली निजात हो तुम,
साँस, कभी धड़कन तो कभी मेरी ज़ात हो तुम।

हद से ज़्यादा मोहब्बत करके देखो.

बर्दाश्त से ज़्यादा दर्द न मिले तो कहना...

किसी को नसीहत के फूल देते वक़्त

खुद उनकी ख़ुशबू लेना मत भूलिये..।

सुप्रभात

जीवन में कभी मौका मिले तो
सारथी बनना, स्वार्थी नही..
सुप्रभात

वो भी उदास वहाँ मैं भी उदास यहाँ....
काश हम मशविरा कर लेते...
एक दूजे की जिंदगी में आने से पहले...