जीवन के विभिन्न पहलुओं पर लिखने की एक कोशिश.....

छोटी सी कहानी थी
वो बारिश वाली शाम बड़ी सुहानी थी।
राह गुज़रती रही
कारवां बढ़ता गया।वो राह वो बारिश वो शाम दूर कहीं रह गये
कहीं दूर फिर किसी कहानी के इंतजार में....!

-Apoorva Singh

Read More

मैं रंग की गोरी और वो वर्ण का श्याम
मेरी हर सांस में बसा है बस एक ही नाम
राधे श्याम🙏

-Apoorva Singh

आओ एक छोटा सा काम करे दूर रहकर भी ख्वाबो के जरिये मुलाकात करे।

-Apoorva Singh

यूँ तो अफ़साने बहुत है कलम चलाने को
शुरुआत कहां से करूँ ये सोच कर हाथ रुक जाते हैं

-Apoorva Singh

यूँ तो हसरत-ए-दिल तमाम हैं बयां करने को
मगर उन्हें एक मुलाकात भी गंवारा नही तो क्या कीजै।

-Apoorva Singh

आंखों से जो कह न सकूँ
उसे होठों से कैसे समझाऊं मैं
कर सकूँ तारीफ तुम्हारी जिन लफ्जो में वो लफ्ज कहां से लाऊं मैं

-Apoorva Singh

Read More

वो सर्दी के कोहरे के बाद खिली धूप सा है
और मै धूप के बाद की सर्द शाम हूँ

कुछ ऐसा ही है ये इश्क़
साथ होकर भी जुदा सा

-Apoorva Singh

Read More

विरह की घड़ियों के बाद मिलन के सुनहरे पलों का आना अभी बाकी है।
तुम्हारे जाने के बाद तुम्हारा लौट कर आना अभी बाकी है।
ये मन बावरा अक्सर भटकता रहता है तुम्हारी तलाश में।इसी मन बावरे का मंजिल पर पहुंच कर ठहरना अभी बाकी है।
तेरे जाने के बाद यूँ तो किस्से बहुत सुनाये है जमाने ने मुझको
लेकिन इन्ही किस्सो का कहानियां बन कर अमर हो जाना अभी बाकी है।
तेरे हर एहसास को संजोया है मैंने खुद में मेरी रूह की तरह।इसीलिए तू मुझमे अभी बाकी है।हां तू मुझमे अभी बाकी है।

Read More

दरख्तों से पत्ते भी अब बिछड़कर गिरने लगे है
दरिया से साहिल भी छूटकर बिछड़ने लगे हैं।
कहीं देर न हो जाये आने में तुझको ए साथी
क्योंकि टूटकर हम भी अब बिखरने लगे हैं

Read More

एक निश्छल मुस्कान के साथ करुणा भरा हृदय और उस हृदय में भरा इंतजार करने का धैर्य यही तो निशानी है उस परम प्रेम की जो कि अनंत है।

-Apoorva Singh

Read More