मेरी इबादतों को ऐसे कर कबूल ऐ मेरे खुदा, के सजदे में मैं झुकूं तो मुझसे जुड़े हर रिश्ते की जिंदगी संवर जाए........ ..खान@

જરૂરી નથી દરેક પ્રેમ
રાધા-કૃષ્ણ જેવા હોય,
અમુક પ્રેમ
Tom & Jerry જેવા પણ હોય...
.............
બસ ઝઘડયા જ કરે.

શુ કરુ.. હું, ક્યાંથી ઉકેલુ.. કેવો આ
સંબધ છે ?
તું લખે છે બ્રેઇલ માં, અને હાથ મારો
અંધ છે !!

महसूस करोगे तो कोरे कागज पर भी नज़र
आएंगे,
हम अल्फ़ाज़ हैं तेरे… हर लफ्ज़ में ढल
जाएंगे।,,,,,,,,,

शहर में बसने वाला गाँव हूँ मैं,
काँटों पर चलने वाला पाँव हूँ मैं,
यूँ ही आग नहीं है मेरे शब्दों में
धूप में जलने वाला छाँव हूँ मैं.
@खान।,,

Read More

एक आधा बुझा दिन मिलता है,
एक आधी जली रात से,
और वो कहते है…
‘क्या ख़ूबसूरत शाम है’,,,,,

मेरे दिल की राख़ क़ुरेद मत,
इसे मुस्कुरा के हवा न दे,,,,

ये चराग़ फिर भी चराग़ है,
कहीं तेरा हाँथ जला न दे।,,,,,
@खान।,,

Read More

कल क्या खूब इश्क़
से मैने बदला लिया,
कागज़ पर लिखा इश्क़,
और उसे ज़ला दिया।..
@खान।,,

વાયુને હંફાવવા બળ ના કરે
એ સુંગધ છે,કદી છળ ના કરે,

પુષ્પ પર ડાઘો પડે એ બીકથી
જીવવાને જિદ ઝાકળ ના કરે,,,,,,

पत्थर को शिकायत है कि पानी
की,
मार से टूट रहे है हैम,,,,

पानी का गिला ये है की पत्थर हमे,
खुलकर बहने नही देते,,,,,,,!!
KH@N..

Read More

मैं पेड़ हूं हर रोज़ गिरते हैं
पत्ते मेरे ,
फिर भी हवाओं से,,
बदलते नहीं रिश्ते मेरे..
@खान।,,