गुजर जाते है खूबसूरत लोग युही मुसाफिरों की तरहा, यादे युही खड़ी रह जाति है अब्बास  रुके रास्तो की तरहा खुद पुकारेगी मंज़िल तो ठहर जाऊँगा वरना खुद्दार मुसाफिर हूँ गुजर जाऊँगा.....@khan

अपनी कलम से लिखूं वो
लफ़्ज़ हो तुम,
अपने दिमाग से सोच लूँ वो
ख्याल हो तुम,
अपनी दुआओ में मांग लूँ वो
मन्नत हो तुम,
और जिसे हम अपने दिल में
रखते हैं वो चाहत हो तुम।

@Quote..

Read More

उसकी जुदाई को लफ़्ज़ों में
कैसे बयान करें,
वो रहती दिल में धडकती दर्द में
और बहती अश्क में।

@Quote..

शुक्र करो हम दर्द सहते हैं,
लिखते नहीं,
वरना काग़ज़ों पर लफ्ज़ों के
जनाज़े उठते।

@Quote,,

 વાદળની બુંદોએ તો માટીને મહેકતી કરી
દીધી,
પણ દિલની યાદોએ તો પાંપણોને વહેતી
કરી દીધી.

@Quote..

जिंदगी बस यूँ ही खत्म होती रही,
जरुरतें सुलगी, ख्वाहिशें धुँआ
होती रहीं...!

@Quote..

हवा के सर्द झोकों की अदावत भी
मोहब्बत में बदल जाती है ,

जब चाय की चुस्कियां तेरे लब पर
सवर जाती है।
@Quote..

""रात भर बेक़रारी की सबब बनी
जो सनसनाहट,

वो सिर्फ हवा के झोंके थे यादों के
आँगन में।""

@Quote

कुछ और ज़ज़्बातों को
बेताब किया उसने,
आज मेहंदी वाले हाथों से
आदाब किया उसने…

@Quote,,

मुहोब्बत तो सिर्फ अल्फ़ाज़ है
उसका एहसास तुम हो ….
अल्फ़ाज़ तो सिर्फ नुमाइश है
जज़्बात तो मेरे तुम हो !!

@Quote,,,

ना कोई फ़साना है ना कोई
जज़्बात
सिर्फ मेरी तन्हाई और कुछ
अनकहे अलफ़ाज़।

@Quote,,