Hey, I am on Matrubharti!

मन एक मंदिर ,आत्मा है मूरत, शरीर है निमित्त,
जीवात्मा के पूजन का।

-Archana Gupta

संघर्ष जिंदगी का, अविराम चल रहा है।
रुकना नहीं है हार कर,
हर शख्स यह कह रहा ।

-Archana Gupta

थक गई है जिंदगी आराम चाहती है।
किसी के ख्वाबों में, पनाह चाहती है।
सोचती थी कभी जो ,रिवाजों पर फतेह चाहती है ।
आज सूनी राहों पर ,एक हमसफर चाहती है।

Read More

झगड़ा करना मेरी आदत नहीं है,
ये तो दस्तूर है प्यार के आगाज का।❤️

रिश्तो का त्याग करना आसान है,
मुश्किल है रिश्ते निभाने का संघर्ष।

त्याग दी है आदतें फिजूलखर्ची और लापरवाहियों की।
समझ आ गई है हमें मुश्किल समय की जरूरतों की।
अभी भी जो नहीं सुधरे ,जरूरत है उन्हें सुधर जाने की।
नहीं तो महंगी पड़ेगी ये आदतें है जो बेपरवाहियों की ।

Read More

झुकी नजरों का सलाम भेजा था,
बंद लिफाफे में पैगाम भेजा था,
तेरे इंतजार की शिद्दत में,
अपनी मौत का पयाम भेजा था।
#सलाम

Read More

खुश हूं कि, आदतें-गम नहीं मुझको।
क्या हुआ गर उल्फतें, कुछ कम नहीं मुझको।
#खुश

निश्छल जो जलसा, चंचल पवन सा ,
धीरता लगन का , समावेश गगन सा ,
श्रंगों से ऊंचा वह, सागर से गहरा वह हृदय मे लालसाओं का जाल लिए पहुंचता है वह जीवन के श्रंग पर, ऐसे ही कितने बाल सुलभ भावों से ,
संचित है यह बचपन।

Read More