×

हमेशा अलग सोचे अलग करे और अलग बनें...

दिल में बसा के हमके जिन्दगी बनइलो
काहें ना अइलो पिया काहें ना अइलो।।

सारी सारी रात पिया याद तोरि आवे
दिल में हिलोर उठे जियरा जरावे।
मन के अगन पिया काहें ना बुझइलो
काहें ना अइलो पिया काहें ना अइलो।।

तोरि तिरिया के लोग मारे ताना
तोके बिसरावे के मिले ना बहाना
बुझत मोरि जिनगी के काहें ना जियइलो
काहें ना अइलो पिया काहें ना अइलो।।

सब छोड़ि छाड़ी मन जोगन बनेके कहे
तोहरे बिरह मन अब ना जले के सहे
मन मोरा पंछी बहुत काबू कइलो
काहें ना अइलो पिया काहें ना अइलो।।

दिल में बसा के हमके जिन्दगी बनइलो
काहें ना अइलो पिया काहें ना अइलो।।

Read More

मैं तो हार गई अपना जहाँ,
बेदर्दी तूने खबर ही ना ली।
क्या कहूँ ऐ सनम
तू है मेरी धड़कन
मेरी सुबह और शाम
करूँ तेरे ही नाम
बस तेरा साथ था मेरा सारा जहाँ,
बेदर्दी तूने खबर ही ना ली।

Read More

एक समय था जब बेटियों को लोग इसलिए पैदा नहीं होने देते थे कि वो दूसरे घर जाएगी शादी के लिए दहेज कहाँ से लाएंगे... और अब समय ऐसा आ गया है कि लोग इसलिए पैदा नहीं होने देंगे कि उन्हें इस दुनिया में सुरक्षित कैसे रख पाएंगे क्योंकि यहाँ वहसी दरिंदे जानवर के रूप में नहीं इंसानी रूप में घूम रहे जिनकी कोई पहचान ही नहीं है....

जस्टिस फार ट्विंकल की बात क्या कहना ... कहने से जस्टिस मिलता है क्या...
सुना है भीड़ में बहुत ताकत होती है शासन प्रशान से भी ज्यादा तो पुलिस के हाथ लगने से पहले भीड़ अपनी ताकत का उपयोग क्यूँ नहीं करती क्या शरीर का खून खौल कर अंगार नहीं बनता ... जब ताकत अपने हाथ में हो तो इंसाफ के लिए दूसरों पर शासन प्रशासन पर आश्रित होना ही क्यूँ.....

Read More

AATHAVIN FAIL

Aur pichhe se jab main dekhi to vo mere taraf nahin mura aur na hi idhar udhar dekha. Sambvatah use pata hi na chala ho aur use dekh kar dharakanen bhi tej nahin hui.

Us din mainne kafi der tak is bare men socha aur tab jana ki kisi bhi sahi galat rishte ki shuruaat sirf larakon ki taraf se hoti hai aur larakiyan usamen bahati chali jati hain. Bhagavan ne larakiyon ko yeh adhikar nahin diya ki vo kisi larake ki dharakanon ko jhanjhana saken.

Main usake bare men hamesha sochati rahati thi. Use dekhana achchha lagata tha. Main use boyfriend  banana ya usase shadi karana nahin chahati thi, main to bas usase dosti karana chahati thi usase yeh kahana chahati thi ki tum kitane sundar ho yahan kya kar rahe ho tumhen to sitaron ki duniya men jana chahiye. Tum jo kam karate ho usake liye nahin bane ho. Bhagavan ne yeh khoobasurati sabako nahin dete hain aur tum doctor ya  engineer to banane se rahe. Tumhari khoobsurati dukan par baithe baithe larakiyon ko tarane men hi barbad ho jayegi. Tum star ban jao to meri sifarish kar dena meri pahchan us industry se r karva dena aur ek dost ki tarah mera sath dena kyunki mujhe apana sapana poora karane ke liye ek sathi ki jarurat hai.

Lekin main usase kuchh nahin kah pai bas sochati rahi ki aise kahungi vaise kahung. Aur intajaar bhi karati rahi ki kabhi to kuchh kahe lekin vah bhi kuchh nahi bola. Main roj sochati ki aaj kahungi lekin kabhi bhi himmat ne sath nahin diya. Shabd juban par hote lekin kabhi hoth nahin khule. Usaka ek dost tha use bhi lagata tha sab kuchh maaloom tha vo bhi mujhe ajib tarah se dekhata tha. Aur dekhate dekhate aakhiri din aa gaya. aakhiri din khaastaur par usase kahane ke liye gait hi lekin vo dikha hi nahin usaka dost dikha tha. Usase kahana chahati thi- bhai aakash ko bula denge please. Vo mujhe dekhata raha bas do kadam ki doori par tha, use bhi laga tha ki main usase kuchh kahana chahati hoon, isi tarah se vo mujhe dekh raha tha lekin us din bhi kuchh kah nahin pai aur hamesha hamesh ke liye gaon chali aai thi.

Tin saal tak main yahan rahi na to koi boyfriend bana pai aur na hi koi girlfriend hi bana pai. Ek sachche dost ka abhav aaj tak mere jivan men bana huaa hai. Koi aisa nahin mila ya mili jisase main khul kar bat kar sakoon jo mujhe sune aur samajhe. Lekin fir bhi jab yahan se ja rahi thi to sabaki bahut yad aa rahi thi.

to be continue....

Read More

दुनिया की क्या बात करूं
मैं अपनों से ही हार गई
करना था दुनिया मुट्ठी में
लक किस्मत में मार गई।

दुनिया से था क्या लड़ना
जब अपनों ने ही हरा दिया
सोचा समझा कुछ भी तो नहीं था
जो अपनों ने सिला दिया।

लगता था ईश्वर साथ है
फिर डरने की क्या बात है
ईश्वर ने भी दगा दिया
पलटी बदली और भुला दिया।

Read More

आई एक नन्ही परी
लाई ढेरों खुशियाँ।
मैं हूँ जिसकी मासी
वो है मेरी बिटिया।।
कोमल सी मासूम है वो
नाजुक सी एक गुड़िया।
घर मेरा भर गया जो
खुली खुशियों की डिबिया।।

Read More

ई बीते ना दिन रतिया
कबहू छूटे न संगतिया
तू हीं हमरा दिल के चैन
तोहरे बिन रहिला बेचैन।।
हमरे नइया के खेवइया
बनिजा ए पिया।
चाहीं तोहके सँवरिया
हउवा मोरा तू जिया।।

छोड़िब दुनिया जहान
बनिके रहब तोहर जान
हमरे मँगिया कै सिन्दूर
बनिके बनजा हमार प्राण
हमरे जिनगी के रचइया
बनिजा ए पिया
चाहीं तोहके सँवरिया
हउवा मोरा तू जिया।।

Read More