बस मन की उथल-पुथल लिख देता हू।

इश्क़ बन चुका है अब मायाजाल ,जिस्म की तपिश को रचते कई चाल ।