टिकटें लिए बैठें हैं लोग मेरी ज़िंदगी की, तमाशा भी पूरा होना चाहिए!

अज़ीज़ इतना ही रक्खो कि जी सँभल जाए....


अब इस क़दर भी न चाहो कि दम निकल जाए....

#Today 'sThought