Physics student...like to write...here is some trying sample...

પૂરતું જ નથી પડતું કોઈને યોગદાન સ્નેહનું,
ઘડીક ક્ષણની હઠ પણ અહીં સ્વાર્થ ગણાય છે...

મનને કઠણ બનાવી દઉં એવું વિચારી તો લેવાય છે...
પણ આ ગણેલા સમયના જીવનમાં,
અને લાગણીઓની લહેરમાં... આ મનડું,
પાછું જાતે જ છેતરાઈ પણ જાય જ છે...

Read More

शिकायत करें या शुक्रिया!
तूने ये कैसा मन बनाया ?
ए खुदा...हम सबको समझ लिए...
बस कोई हमें ना समझ पाया!!...
#मानसिक

આંખલડીની એ ઝરી... કેમ ભૂલાય!
“વિશ્ર્વાસ" ની વાત‌‌ કેમ વિસરાય!...
“બા" અને મારો...એ પહેલો વિમાનનો સફર,
એ ઉત્સાહ...એ દ્રશ્ય...
એ સૂચન સત્ય કેરું કે “સમય રહેતો નથી સમાન...
ત્યાં સુધી હૈયું હંમેશ... હસતાં હસતાં સિવાય!!


#વિમાન

Read More

अहिंसा अपनी जगह सही है!
पर कुछ जंगली दरिंदों के लिए...ये नियम नहीं है।।
#अहिंसा

હે કરુણાનિધિ!...તુજ કૃપાની હું પ્યાસી...
રહે સદા સંગ... સરળતા અને સમર્પણ,
ન થાઉં કદી હું...મોજ શોખની દાસી!!
#કરુણા

Read More

આવાસ આ અંતર તણું...
સજાયેલો રહેશે સદાય સઘળું...
તમને આવકારવાની તો હિંમત નથી!!
પણ યાદોને છે વિનંતી! કે,... “મળવા આવતાં રહેવું"
#આવાસ

Read More

माफी कैसे मंजूर हो ? जब ज़हन में सिर्फ लफ्ज़ हों!
पस्तावा अगर आंखों और तरीकों में बस जाए!
फिर तो माफी तक की क्या जरूरत हो!!....
#माफी

Read More

कल... सुबह से लेके शाम हो गई,
कोई अंजानी ख़ुशी मिलने वाली थी!
इंतज़ार में गुफ्तगू चांद से हो गई!!
तो बातें कुछ पुरानी याद आ गई...
उन जनाब ज्योतिष का तो पता नहीं!!
पर वो दिलकश यादें दिल को हॅंसा गई!!
और साथ में ये भी समझा गईं...
की...“गर खुश होना चाहते हैं हम!,, तभी खुश हो सकते हैं हम!!"
#ज्योतिष

Read More

यादों से तेरी मुझे आराम चाहिए!
ख्यालों के भवर में, एक सुकुन की नींद चाहिए...
वो नसीब से शिकायतें, ख़ुदा से झगड़े...
मां के खाने की फिर से, वो तेज़ सी भूख चाहिए!!

बहुत जीतें हैं तुने दिल, ए दिल!
इस बार ये हार भी, सरेआम चाहिए...
तु छोड़ ये स्वचालित रश्में...अब बस
मुझे उसकी नाराजगी से आराम चाहिए...
आराम चाहिए।।

#स्वचालित

Read More

परेशानी अगर खुद से हो,
तो...सुलझन की सक्कर और उलझन के नमक से...
जिवन अपना स्वादिष्ट बनाया जा सकता है!
पर... मोहताज ही हम अपनी खुशियों के लिए,
किसी और पे हो जाएं,
फिर तो मामला संभालना थोड़ा मुश्किल लगता है!!
#स्वादिष्ट

Read More