× Popup image
  • #kavyotsav -2

    मैं अपनी रसोई की दराजों में पेन रखती हूं
    तेल की चिपचिपाहट अक्सर हावी होने लगती है अक्षरों पर!
    लिखते हुए रिक्तता आ जाती है बीच-बीच में कहीं
    जो रिक्त छुट गया,बस वही..
    वही तो कहना होता है हमें
    इन दिनों परीक्षा का पेपर हल करने में लगी रहती हूं
    वही! जिसमें लिखा होता है
    -----रिक्त स्थानों की पूर्ति किजिए!
    तुम्हारे साम्राज्य में मेरी सेंध
    रिक्त पद भरने तक की है केवल
    यूं तुम अपना ताज न संभाला करो!
    मैंने रसोईघर में कमा रखें हैं ताज बहुत..
    जो बड़े सुकून से रहते हैं
    छोटे-छोटे तिलचट्टों के बीच!

    #लता

    #बस #ऐसे #ही !