× Popup image

#bites status in Hindi, Gujarati, Marathi

  • #Bites #
    ""प्यार एक एहसास.....""

    प्यार एक एहसास है
                                  जो अपने आप में बहुत खास है,
    इसके होने से लगता है
                                  जैसे कोई हर वक्त हमारे साथ हैं
    प्यार की दुनिया में
                                      खुशियां बेहिसाब है,
    ऐसा लगता है मानो
                                      पतझड़ में भी बरसात है,
    उसकी बातों से लगता है जैसे
                               कानों में मिश्री सी घुल रही मिठास है,
    उसकी बातों को सुनकर
                              चेहरे पर हर वक़्त खुशी का एहसास है,
    उससे बात करके 
                                  ना सुबह का पता है ना शाम है,
    प्यार की राह थोड़ी मुश्किल है
                                      इतनी नहीं आसान है,
    लेकिन जिसको मिल जाए
                          वह दुनिया का सबसे खुशनसीब इंसान है,
    प्यार के तो दर्द में भी मिठास है
                           इसकी चुभन में एक अनकहा एहसास है,
    नाराज होकर भी लगता है कोई
                                 जैसे हर वक्त हमारे आसपास है,
    हर पल हर वक्त बस
                                उसके मनाने का इंतजार है,
    उसके मनाने पर
                            मेरा मान जाना ही मेरा प्यार है,
    प्यार हो तो लगता है जैसे
                             दुनिया की सारी खुशियां हमारे पास है ,
    प्यार एक हसीन ख्वाब है
              जो रुह-ए-मोहब्बत बनकर हर वक्त हमारे साथ है।
            
                                                                  --- साक्षी जैन

  • #Bites #
    "एक वक्त ऐसा भी.......part-1"
    यह एक पूरी कविता है लेकिन 500 शब्द की लिमिट होने के कारण यह यहां पर पूरी नहीं आ पा रही है, इसीलिए इससे 2 पार्ट में डिवाइड कर दिया गया है कृपया दोनों पार्ट पढ़ें और पढ़ कर बताएं कि आपको यह कविता कैसी लगी है।

    जिंदगी के सफर में
    एक ऐसा वक्त भी आता है,
    जब अपना ही अपनों के
    काम नहीं आता है,

    जिंदगी के मुकाम में
    एक ऐसा दौर भी आता है,
    जब भगवान भी हमारी
    परीक्षाएं लिए चला जाता हैं,

    जिंदगी के रास्तों में
    एक मोड़ ऐसा भी आता है,
    जिसको हम अपना मानते हैं
    वही हमें छोड़ कर चला जाता है,

    जिंदगी में कुछ दर्द
    ऐसा हो जाता है,
    जिसकी वजह से इंसान
    घुटता चला जाता है,

    जब वक्त अपना ना हो तो
    बिना गलती के भी इंसान गलत हो जाता है
    गलती ना होते हुए भी इंसान
    सबकी नजरों में गलत हो जाता है,

    गिरता है वह सबकी नजरों में
    लेकिन चाह कर भी उठ नहीं पाता है,
    अपने भी हो जाते हैं पराये
    और परायो में अपनापन ढूंढा जाता है,

    वह ढूंढता है हर जगह अपनापन
    लेकिन हर जगह से चोट खाता है,
    सोचते हैं हम क्या
    और क्या का क्या हो जाता है,

    बहुत विश्वास करते हैं हम जिन पर
    वही हमारे विश्वास को चकनाचूर कर के चला जाता है, जिसे मानते थे हम अपना
    वही हमें धोखा दे जाता है,

    आंखों से झलकता है दर्द
    और आंसू बनकर बह जाता है,
    कितना मजबूर होता है वो इंसान
     जो‌ अपने आंसू ‌छुपा कर दुनिया के
     सामने हर पल मुस्कुराता है,

    ऐसे वक्त में समाज भी अपनी
    एक अहम भूमिका निभाता है,
    सच- झूठ को जाने बिना ही
    उसे कसूरवार ठहराता है,

    ऐसे में रिश्तेदार कैसे पीछे रह जाता
    वह भी अपना फर्ज बखूबी निभाता है,
    इधर उधर की बातें सुनकर वो भी
    जले पर खूब नमक-मिर्ची लगाता है,

    दिल पर लगे जख्मों का दर्द
    इतना गहरा हो जाता है,
    कि वो बेचारा उस दर्द की
    तन्हाइयों में डूबता चला जाता है,

    तूफानों से लड़कर
    पार लगाना चाहता है वह अपनी कश्ती,
    लेकिन लहरों के भंवर में
    फंस कर वही गोते खाता रह जाता है,

    वह चीखता है चिल्लाता है
    बार - बार समझाता है,
    कोई ना उसकी सुनता है
    ना कोई पास जाता है,

    जिंदगी की कशमकश में
    वह फिर अकेला रह जाता है।।3।।

  • #Bites on#
    "जिंदा थे जब तक..."

    जिंदा थे तब तक कोई ना आया
    इस दर्द में शामिल होने को
    आज मर गए तो कहते हैं
    कभी खोला तो होता हमारे साथ
    दिल के किसी कोने को

    जिंदा थे तब तक कोई ना समझ पाया
    दिल के जज्बात को
    आज मर गए तो कहते हैं कि
    हम समझ रहे हैं तुम्हारे हालात को

    जिंदा थे तब तक कोई ना आया
    पूछने को मेरे हाल को
    आज मर गए तो फिर
    ट्विटर और इंस्टा पर करते मलाल हो

    जिंदा थे तब तक तो खूब डराया इस बात से
    यह मत कर वह मत कर
    जमाना बुरा कहेगा हर बात पे
    आज जब मर गए हैं अब तो चैन से सोने दो
    अब मैं तो गया अब सोच कर रोते रहना
    अच्छी बुरी बात को

    जिंदा थे तब तक जिंदगी के इम्तिहान खत्म नहीं होते थे
    फेल ना हो जाए हम हर रात इस डर में हम सोते थे
    आज जब मर गए तो कहते हैं
    पास फैल में क्या रखा छोड़ देते इन सब बातों को

    जिंदा थे तब तक तो खूब ताने देते थे
    गलती हो या ना हो हमेशा सुनाते रहते थे
    आज मर गए तो कहते हो कि
    तानों और लोगों का क्या डर है तो बस यूं ही कहते रहते हैं

    जिंदा थे तब तक खूब प्यार के लिए जागे थे
    प्यार मिले किसी का तो इसके लिए खूब इधर-उधर भागे थे आज मर गए हैं तो कहते हो कि
    पागल हो तुम जो सिर्फ प्यार के लिए जान देते हो

    जिंदा थे तब तक कोई नहीं समझना चाहते थे
    आज मर गए हैं तो
    हजारों RIP करके हमारा स्टेटस लगाते हैं

    जिंदा थे तब तक कोई ना आया साथ होने को
    आज मर गए तो कहते हैं कि समझते हैं मेरे रोने को
    काश समझ जाते कभी जिंदा इंसान को
    तो नहीं उठानी पड़ती है कभी ऐसी किसी लाश को।

    -- साक्षी जैन