× Popup image

#mere status in Hindi, Gujarati, Marathi

  • #Mere #krishna

    कृष्णा मेरे लिए शाश्वत प्रेम का पर्याय हैं जो हर जीवात्मा में प्रेम रूप में निहित है वो प्रेम जो अपने अंदर सब समेट लेना जानता है क्रोध घृणा द्वेष वासना और भी जो मानसिक मलिनताऐं हैं।कान्हा हर पापी को अपनी शरण में आश्रय देना जानते हैं माता पिता यानि शिवा और शिव की शरण से जो वंचित हो वो कान्हा की शरण में जाये उसका अपराध बोध और मानसिक उद्विग्नता शान्त हो जाएगी
    कान्हा भगवान विष्णु के ८वें अवतार हैं कृष्ण को श्याम, केशव, द्वारकेश या द्वारकाधीश, वासुदेव आदि नामों से भी जाना जाता हैं। कृष्ण निष्काम कर्मयोगी, एक आदर्श दार्शनिक, स्थितप्रज्ञ एवं दैवी संपदाओं से सुसज्ज महान पुरुष थे। उनका जन्म द्वापर में हुआ था। उनको इस युग के सर्वश्रेष्ठ पुरुष युगपुरुष या युगावतार का स्थान दिया गया है। कृष्ण के समकालीन महर्षि वेदव्यास द्वारा रचित श्रीमद्भागवत और महाभारत में कृष्ण का चरित्र विस्तुत रूप से लिखा गया है। गीता में कृष्ण और अर्जुन का संवाद है जो ग्रंथ आज भी पूरे विश्व में लोकप्रिय है। इस कृति के लिए कृष्ण को जगतगुरु का सम्मान भी दिया जाता है।