Pale insaniyat jisme mai vo daalana ho jau by Rakesh Kumar Pandey Sagar in Hindi Motivational Stories PDF

पले इंसानियत जिसमें मैं वो दालान हो जाऊं

by Rakesh Kumar Pandey Sagar in Hindi Motivational Stories

१- "पले इंसानियत जिसमें मैं वो दालान हो जाऊं" तमन्ना है तेरे सजदे में मैं,कुर्बान हो जाऊं, चले जो पीढ़ियों तक,वो बना दीवान हो जाऊं, ये क्या हिन्दू, ये क्या मुस्लिम,हैं सब बेकार की बातें, पले इंसानियत जिसमें,मैं वो ...Read More