Us Raat Ka Savera n hua by Dr Fateh Singh Bhati in Hindi Love Stories PDF

उस रात का सवेरा न हुआ

by Dr Fateh Singh Bhati in Hindi Love Stories

पश्चिम के धोरे (रेत का टीला) को भगवान भास्कर मुकुट बन कर सुशोभित कर रहे थे | थार की धरा जैसे पीत वस्त्र धारण कर चुकी हो | यह संकेत था, शाम की चाय के समय का | 1965-70 ...Read More