Dil ki zameen par thuki kile - 17 by Pranava Bharti in Hindi Short Stories PDF

दिल की ज़मीन पर ठुकी कीलें - 17

by Pranava Bharti Matrubharti Verified in Hindi Short Stories

दिल की ज़मीन पर ठुकी कीलें (लघु कथा-संग्रह ) 17-पिन ये क्या है? शिवम उठते हुए कुछ झुंझलाया।उसकी पैंट के पीछे कुछ भारी सा महसूस हो रहा था।थोड़ा टटोलने पर उसे पता चला उसकी पैंट में पिन ...Read More