Marna bhi ek kala hai by Satish Sardana Kumar in Hindi Human Science PDF

मरना भी एक कला है

by Satish Sardana Kumar in Hindi Human Science

मरना भी एक कला है।भग्गू मरा तो पता चला।जैसे वह खामख्वाह जी रहा था वैसे ही एक दिन खामख्वाह मर गया।वरना मैंने इस तरह से आदमी मरते देखें हैं मानो किसी कला की सरंचना हुई हो।लोग पचास साठ बरस ...Read More