kshatrani - kunti ki vyatha - 2 - last by किशनलाल शर्मा in Hindi Mythological Stories PDF

क्षत्राणी--कुंती की व्यथा(अंतिम किश्त भाग 2)

by किशनलाल शर्मा Matrubharti Verified in Hindi Mythological Stories

द्रौपदी सभा मे जो भी बात कह रही थी।पांडवो की तरफ देखते हुए कह रही थी।पांडवो को जितना दुख द्रौपदी की दूर्दशा देख कर हो रहा था।उतना राज व अन्य वस्तएं छिन्न जाने पर भी नही हुआ था।पांडवो ...Read More