narottam das pandey ki mukt kritiyan by कृष्ण विहारी लाल पांडेय in Hindi Book Reviews PDF

नरोत्तम दास पाणेय ‘‘मधु’’ की मुक्त कृतियां

by कृष्ण विहारी लाल पांडेय in Hindi Book Reviews

नरोत्तम दास पाणेय ‘‘मधु’’ की मुक्त कृतियां काव्य के निर्बन्ध स्वरूप को मुक्तक कहा जाता है। ‘अग्निपुराण’ में ऐसे श्लोक को मुक्तक कहा गया है जो स्वयं में ही चमत्कारक्षम हो- मुक्तकं श्लोक एकैकश्चमत्कारक्षमः सताम्।1 आनन्दवर्द्धन ने ...Read More