Corona kaal ki kahaniyan - 1 by Prabodh Kumar Govil in Hindi Motivational Stories PDF

कोरोना काल की कहानियां - 1

by Prabodh Kumar Govil Matrubharti Verified in Hindi Motivational Stories

आंसू रुक नहीं रहे थे। कभी कॉलेज के दिनों में पढ़ा था कि पुरुष रोते नहीं हैं। बस, इसी बात का आसरा था कि ये रोना भी कोई रोना है। जब प्याज़ अच्छी तरह पिस गई, तो मैंने सिल ...Read More