नि.र.स. - 2 - एक प्यार का एहसास

by Rajat Singhal in Hindi Poems

नि.र.स. - एक प्यार का एहसास ---------------------------------------------------------------- ये गुमशुदा लेखनी लिखती मेरी कलम, किसी की यादें, बातें, व मुलाकाते, आंखों से गिर कागज पर स्याही बन, देख नि.र.स. नि:शब्दता को शब्द दे जाती हैं।।...