हाँ, मैं भागी हुई स्त्री हूँ - (भाग तीन)

by Ranjana Jaiswal Matrubharti Verified in Hindi Novel Episodes

आकाश गिद्धों से भरा हुआ था,यही समय था कि एक नन्हीं चिड़ियाँ पिंजरा तोड़कर उड़ी थी।उसे नहीं पता था कि आसमान इतना असुरक्षित होगा।उसने तो सपनें में आसमान की नीलिमा देखी थी।ढेर सारे पक्षियों की चहचहाहटें सुनी थीं।शीतल ,मंद ...Read More


-->