Vish Virgo - 37 by Bhumika in Hindi Classic Stories PDF

विष कन्या - 37

by Bhumika Matrubharti Verified in Hindi Classic Stories

में कनकपुर में जाकर वहां के राजवैध सुबोधन से जाकर मिला। वहां मेने उनसे अपनी पहचान नहीं छुपाई। मैने उनको बताया कि में महान वैदाचार्य वेदर्थी का पुत्र मृत्युंजय हुं और इस राज्य में कुछ कार्य हेतु आया हुं। ...Read More