मोतीबाई--(एक तवायफ़ माँ की कहानी)--(अन्तिम भाग)

by Saroj Verma Matrubharti Verified in Hindi Women Focused

अब दो साल महुआ को बेटे का मुँह देखे बिना काटने थे लेकिन तब भी उसने तसल्ली रख ली,बेटियाँ हर एक दो महीने में माँ से मिलने आतीं रहतीं,फिर पता चला कि रिमझिम उम्मीद से है इसलिए उसकी देखभाल ...Read More