Baaki Safa 5 Par - Roop Singh - Subhash Nirav (Translation) by राजीव तनेजा in Hindi Book Reviews PDF

बाक़ी सफ़ा 5 पर- रूप सिंह - सुभाष नीरव (अनुवाद)

by राजीव तनेजा Matrubharti Verified in Hindi Book Reviews

कई बार राजनीति में अपने लाभ..वर्चस्व इत्यादि को स्थापित करने के उद्देश्य से अपने पिट्ठू के रूप में आलाकमान अथवा अन्य राजनैतिक पार्टियों द्वारा ऐसे मोहरों को फिट कर दिया जाता है जो वक्त/बेवक्त के हिसाब से उन्हीं की ...Read More