हज़ार चौरासी की माँ - भाग 5 - अंतिम भाग

by Mallika Mukherjee Matrubharti Verified in Hindi Drama

नाटक ‘हज़ार चौरासी की माँ’ मूल बांग्ला उपन्यास - महाश्वेता देवी बांग्ला नाट्य रूपांतर - शांति चट्टोपाध्याय हिन्दी नाट्य अनुवाद - मल्लिका मुखर्जी दृश्य 5 नन्दिनी: (दरवाज़ा खोलते हुए) आप? सुजाता: मैं व्रती की माँ हूँ। नन्दिनी: ...Read More