घुमक्कड़ी बंजारा मन की - 16 - लास्ट पार्ट

घुमक्कड़ी बंजारा मन की

(१६)

हैदराबाद

यदि बिरयानी नाम सुनते ही आपको जिस शहर का नाम ध्यान में आता है हैदराबाद तो यह इसके अलावा भी बहुत कुछ है इस शहर के बारे में जिसके बारे में जानना जरुरी है. यह शहर है निज़ामों का एक शहर, जिसमें हैं मोती, झीलें, और बाग़। एक शहर जो खाता पीता है, जीवंत है और हाई टेक होने के साथ साथ ऐसा एक शहर जहाँ पुरानी परम्पराएं भी जीवित है और साथ साथ चलती है.

मैंने पिछले साल इस सुन्दर शहर को देखने का निश्चय किया. जैसे ही इस शहर में प्रवेश किया तो इसको देखते ही पुरानी दिल्ली, आगरा और फतेहपुर सीकरी की याद आई. और जैसे जैसे हम इस शहर से परिचित होते गए तो पाया कि आधुनिकता के साथ संस्कृति और परंपरा कितनी खूबसूरती से घुलमिल गई है। कोई आश्चर्य नहीं कि इसे 'भारत का इस्तांबुल' भी कहा जाता है।

हुसैन सागर झील

सबसे पहले हम ने अपने ट्रिप की शुरुआत हुसैन सागर झील से की जो कि एक मानव निर्मित झील है. इस झील के बीच में 18 मीटर ऊंची बुद्ध प्रतिमा है. यह झील आपको सुख, शान्ति और प्रेम का एहसास करवाती है, इसके लिए बुद्ध तक पहुंचने के लिए यहाँ बोट चलती है जो आपको वहां पहुँच कर एक रूमानी एहसास करवाती है, यदि आप कुछ साहसिक खेल चाहते हैं तो यहाँ आप बहुत सस्ती टिकट की कीमत पर पैरा-सेलिंग के लिए जा सकते हैं।

लुम्बिनी पार्क

अगले दिन हम सब लुम्बिनी पार्क गए. जिसमें एक संगीतमय फव्वारा और आंध्र प्रदेश के विभिन्न व्यक्तित्वों की 33 मूर्तियाँ हैं। तकनीकी शहर में तकनीकी मनोरंजन की व्यवस्था है! बॉलीवुड की धुनों पर शानदार रंगों में पानी को नाचते देख मन अभिभूत हो गया। लेजर शो में पानी के माध्यम से, शहर के इतिहास, पुराने में लोकप्रिय स्थानों के साथ-साथ नए शहर और टॉलीवुड के बारे में दिखाया गया है। यह एक बेहतरीन शो था जिसने मुझे मंत्रमुग्ध कर दिया। वाकई यह बहुत ही सुन्दर था.

हाई टेक सिटी

अगले दिन की शुरुआत हमने देश में सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में हैदराबाद के नेतृत्व के प्रतीक-हाई-टेक शहर की यात्रा से की। यह हैदराबाद के बाहरी इलाके में मधापुर में स्थित है। एक पूरी तरह से एकीकृत, अति आधुनिक शहर जो बुनियादी सुविधाओं से बना हुआ है, यहाँ देश दुनिया भर के आफिस है जिसमे देश दुनिया के कई यंग बच्चे काम करते हैं और यह आफिस अपने सभी कर्मचारियों का पूरा ध्यान रखते हैं. यह वाकई देखने लायक जगह है.

एनटीआर गार्डन

शानदार कार्यस्थलों के बाद अब बारी थी यहाँ पर बने सुन्दर बाग़ बगीचों को देखने की एनटीआर गार्डन जो शाम को घूमने के लिए एक शानदार जगह है। उद्यान एक शांत वातावरण के साथ-साथ एक शांत वातावरण यहाँ की सुन्दरता को चार चाँद लगा देते हैं यहाँ सब कुछ है, जापानी उद्यान, रेस्तरां, कैफे, स्मारिका दुकानें और बहुत कुछ। जिसको देखे बिना यात्रा अधूरी है,

रामोजी फिल्म सिटी

हैदराबाद में एक प्रमुख आकर्षण रामोजी फिल्म सिटी है। यह लगभग 2, 000 एकड़ में दुनिया का सबसे बड़ा एकीकृत फिल्म स्टूडियो कॉम्प्लेक्स है। इसके अलावा यह एशिया के सबसे लोकप्रिय पर्यटन और मनोरंजन केंद्रों में से एक है। इसमें 500 से अधिक सेट लोकेशन हैं। 20 अंतर्राष्ट्रीय फिल्में और लगभग चालीस भारतीय फिल्में एक साथ कॉम्प्लेक्स में निर्मित की जा सकती हैं। खाओ, झूलो, स्किट्स और डांस परफॉरमेंस देखो, बस की सवारी करो - ऐसा करने के लिए बहुत कुछ है! यहाँ पर हमने कई फिल्मों की शूटिंग देखी, कई सेट देखे जहाँ बहुत सी फेमस फिल्मों की शूटिंग हुई थी रामोजी सिटी नहीं देखा वहां जा कर तो कुछ नहीं देखा, वाकई फिल्मों की जादुई दुनिया का आईना था यह.

चार मीनार

यह तो थी आधुनिक हेदराबाद की झलक पर पुराने सिटी में चार मीनार और गोलकुंडा किले की यात्रा के बिना हैदराबाद की यात्रा अधूरी होती। चारमीनार के पश्चिम में लाड बाज़ार है, जिसे "स्ट्रीट ऑफ़ लव" के रूप में भी जाना जाता है। बीते युग की याद दिलाने वाली हलचल वाली गली में, आपको चूड़ियाँ ही चूड़ियाँ मिलेगी जो अपने में ही अनूठी है प्रत्येक चूड़ी सेट डिजाइन और रंग में बेहतरीन और सुन्दर है. आप मोती और चूड़ियों को पसंद करते हैं तो यह बाज़ार आपके लिए किसी स्वर्ग से कम नहीं चार मीनार से शहर का नज़ारा देखते ही बनता है, हलांकि यहाँ थोडा साफ़ सफाई का अभाव था. शहर के अन्य प्रमुख आकर्षण हैं बिरला मंदिर, नेहरू प्राणी उद्यान, भारत का सबसे बड़ा चिड़ियाघर, स्नो वर्ल्ड, फलकनुमा पैलेस और निश्चित रूप से सालार जंग संग्रहालय, जिसमें कला का खजाना है। गोलकुंडा की सीढियां थका जरुर देती है पर वहां पहुंचने पर निराश नहीं करती, बेहद सुन्दर देखने लायक किला है यह

यहाँ का खान पान

अब यहाँ आये और बात न हो इस चीज की तो बात अधूरी है यह बात निस्संदेह, प्रसिद्ध हैदराबादी बिरयानी की है। यहाँ बहुत अधिक व्यंजनों की एक निज़ाम रसोई है। रमजान के पवित्र महीने में मुसलमानों द्वारा पारंपरिक रूप से खाया जाने वाला मीट व्यंजन खुबानी की मीठा, फेनी और हलीम शामिल हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि विभिन्न देशों के लोग रमजान के दौरान सिर्फ हलीम होने के लिए हैदराबाद आते हैं। इसके अलावा, नामपल्ली के पास कराची बेकरी बहुत ही प्रसिद्ध स्थान है जो अपने स्थानीय बिस्मानिया बिस्कुट के लिए लोकप्रिय है। यहाँ से हमने खूब खरीद दारी की, तरह तरह के बिस्किट लिए.

यात्रा का अंत

हैदराबाद के बारे में सबसे अच्छा हिस्सा सस्ता परिवहन है और शहर आधी रात के बाद भी सुरक्षित है। साथ ही, लोग बहुत मिलनसार होते हैं। जब स्थानीय लोग आपसे हिंदी में बात करते हैं, तो विशिष्ट 'हैदराबादी बोली' आपको प्रभावित करते हैं यहाँ अपने मेहमानों के लिए गर्मजोशी है मेहमान नवाजी है हैदराबाद के बारे में बुरा हिस्सा यातायात है क्योंकि यह खराब ड्राइवरों का शहर है। किसी भी सड़क को पार करना लगभग असंभव है, मोटरसाइकिल सवारों को ड्राइविंग का कोई मतलब नहीं है, ट्रैफिक सिग्नलों की कमी है और कोई भी ट्रैफ़िक पुलिस की बात पर ध्यान नहीं देता है।

फिर भी यह एक सुन्दर और बेहतरीन शहर है जो आधुनिक है, पारम्पारिक है और आपको अपने पास बार बार बुलाता है

*********

यह थी मेरी अब तक की गयी यात्राओं में से कुछ प्रमुख यात्राएं. अभी बहुत सी बाकी हैं, क्यूंकि जीवन चलने का नाम है जब तक संभव है तब तक यह सफ़र जारी रहेगा, फिर मिलूंगी आपको नेक्स्ट सीरिज में और की गयी नयी यात्राओं के साथ, यह आपको कैसी लगी अवश्य बताएं

धन्यवाद

रंजू भाटिया

***

Rate & Review

Verified icon

Vinod 4 weeks ago

Verified icon

Sunhera Noorani 1 month ago