State Bank of India socialem (the socialization) - 2 in Hindi Novel Episodes by Nirav Vanshavalya books and stories PDF | स्टेट बंक ऑफ़ इंडिया socialem(the socialization) - 2

स्टेट बंक ऑफ़ इंडिया socialem(the socialization) - 2

अदैन्य ने अर्थक भाव से पत्रकार की बात सुनी और पत्रकार के अबोध और दयनीय हावभाव को देखकर अट हास्य करने लगे.

अदैन्य के अट्ट हास्य की समाप्ति के दूसरे ही क्षण

दो कांचो के जोरदार टकराने की आवाज सुनाई देती है और टीवी में से धुआ निकलता दिखाई दे रहा है.


अदैन्य थोड़े से झुके हुए हैं और क्रोधित भाव से टीवी को देख रहे हैं.

अदैन्य ने उठ कर कपोल पर चिंतित भाव से उंगलियां फिरानी शुरू की और त्रस्त स्वर में बोले यह दुनिया बर्बाद हो रही है और यह गोरे अपनी ही होशियारी हाँकते रहते हैं.

अदैन्य ने ट्राइपॉईड को लात मारी और कहां मैंने यूरो डॉलर के इस्टैब्लिशमेंट के पहले ही दिन कहां था की इसे अंडर एंटीफंगस रख दो मगर किसी ने मेरी एक नहीं सुनी.

थोड़ी देर के बाद व्हिस्की के स्कोच नोजल मे से शराब टपकती दिखाई दे रही है. और अदैन्य पैर फैलाकर त्रस्त निद्रा धीन.

रात के 3:00 बजे अदैन्य के घर के बाहर कुछ हद पर एक कुत्ता भोंक रहा है. और अदैन्य के बगले में से
मोबाइल रिंग बजती सुनाई दे रही है.

कुछ देर तक रिंग निरंतर बजती रही मगर थोड़ी ही देर के बाद कुत्ते के कानों में भी रात्रि का सन्नाटा ही गूंजने लगा.

जर्मनी के ढलान वाली हाईवे पर से 90 किलोमीटर प्रति घंटे की तेज रफ्तार से एक वॉक्सवैगन (फॉक्सवैगन) कार आती दिखाई दे रही है.

कार के इस सेकंड के 300 मीटर दूर हाईवे के बीच में एक गिलहरी बैठी है.

गिलहरी आवाज सुन कर दौड़ के उस पार चली गई और वोक्सवैगन उसी रफ्तार से आगे निकल गई.
नीलगिरी के पेड़ की शिखा शाखा पर एक बंदर बैठा हुआ है.

यह बंदर दूर से आती हुई वॉक्सवैगन को देख और सुन रहा है.

कुछ ही देर में वो वॉक्सवैगन 90 की रफ्तार से पसार हो जाती है और थोड़ी दूर तक बंदर जाती वॉक्सवैगन को देखता रहता है.

हाईवे बिल्कुल सुनसान है. और नदी में से एक क्रोकोडाइल बाहर निकल कर किनारे पर धूप सेक रहा है.

अचानक ही क्रोकोडाइल की आंखें खुल गई और थोड़ी ही देर में वॉक्सवैगन वहां से भी पसार हो गई.

एक गोकलगाय अपनी ही गति से हाईवे पर चल रही है.

कुछ ही देर में वॉक्सवैगन उसके ऊपर से पसार हो जाती है मगर गोकल गाय अभी भी सुरक्षित है.

वॉक्सवैगन के अंदर बैठे चालक का एक हाथ दिखाई देता है.

और उस हाथ में एक सीडी.

थोड़ी ही सेकंड में cd प्लेयर ऑन होता है और आगे की खिड़की के दोनों शीशे खुल जाते हैं.

जंगल की धुलि में एक हिरन हाईवे की ओर दौड़ रहा है.

उसे सिर्फ वॉक्सवैगन के अंदर बज रहा संगीत ही सुनाई दे रहा है.

वह हिरण हाईवे तक पहुंचता ही है की वॉक्सवैगन ऊसकी आंखों के सामने से पसार हो जाती है.

किंग ऑफ काइट्स फाल्कन फॉक्सवैगन के बिल्कुल ऊपर उड़ रहा है. उसे भी वॉक्सवैगन दिखाई और सुनाई दे रही है.

अभी भी कार चालक दिखाई नहीं दे रहा है.

उसका सिर्फ ब्लैक कोट, ब्लैक पैंट और वाइट शर्ट ही दिखाई दे रहा है.