ISHQ HAI TUMSE HI - 9 in Hindi Novel Episodes by Jaimini Brahmbhatt books and stories PDF | इश्क़ है तुमसे ही - 9

इश्क़ है तुमसे ही - 9

....दो महीने बाद-----,

राजस्थान--जैसलमेर -,
अमन को किसी ने बताया कि एक जगह दंगा हो गया है, अमन ने call कट की वहा चार्ज संभाल ने के लिये चला गया।वहाँ पहुुँच के
देखा तो वहाँ कोई नही था।तभी अचानक उसे चारो ओर से गुंडो ने घेर लिया,वो सभी नकाबपोश थे ,उनमे से एक ने आगे आकर कहा:-जै है ,वो नया नमूना.!इसणे काली की फाइल ओपन की सै। कै लागे से थारे को तू काली तक पहुंचेगा।अरे,थारे जैसे कितने आवे ओर खो गए जै राजस्थान की मिट्टी में।
अमन ने उसे जवाब दिया:-में उनमे से नही जो खो जाए,अमन नाम है मेरा ।जहा जाता हूँ वहा फैैैलाता हूँ और तुुझ जेसो का
छीन लेता हूं।बहुत जल्द तेरे उस बाप काली को भी ढूंढ निकलूंगा।समझा.!
अमन ने उसे लात मारके गन छुड़वा दी उसके
हाथो से।तभी वहा कुछ और पुलिस वाले आ गए।कुछ ही देर में वो जगह जंग का मैदान बन गई।चारो तरफ सिर्फ गोलियों की आवाजें आने लगी।तभी कुछ और गाड़िया आई उसमे से कुछ लोग निकले और फायरिंग करने लगे इस बीच अमन को एक गोली कंधे पर लग गयी।कुछ ही देर में नकाबपोश गुंडे कुछ ही बचे थे।उसमे एक जो मुखिया था उसने सब को भाग ने का इशारा किया,तभी उसके सामने एक आदमी आया उसे पकड़कर बोला:-इतनी भी क्या जल्दी है,दत्ता!! 20 साल से ढूंढ रहा हूं,तुझे।अब नही भाग पायेगा।
उसने एक जोरदार पंच👊मारा और पीछेवाले दो लड़कों ने उसे पकड़ लिया वो झटपटा रहा था ,तभी उस आदमी ने कहा-कुशन..!ले जाओ इसे हिसाब अभी बाकी है, इसका। वो लोग उसे ले गए।तभी वो पुलिसवालो की तरफ बढ़ गया,सभी पुलिसवाले उसे देखकर सलाम करने लगे ,सिवाय अमन के अमन अब भी हैरान था।
वो अमन की तरफ आया और बोला:-आप परेशान ना हो अमन जी.!अभी गोली लगी है आपको चलिए इलाज करवा लीजिये,फिर सब जवाब भी मिल जाएंगे आपको।
अमन को उसकी बात सही लगी ,वो उसके साथ चल दिया।कुछ देर बाद .,वो दोनों महल के सामने थे।एक नोकर ने आके दरवाजा खोला,वो आदमी अमन को सहारा देकर अंदर ले गया।अमन तो महल को देखकर हैरान ही हो गया।खूबसूरत राजस्थानी थाट-बाठ से सजा हुआ देखते ही पता लग जाये कि किसी राजा-महाराजा का महल है।उस आदमी ने उसे सोफे पर बिठाया।वहां,डॉक्टर पहले से ही मौजूद था।उसने अमन को चेक किया और ड्रेसिंग कर दी।फिर उस आदमी की तरफ मूड के बोला:-don't worry.!कुंवरसा ,he is fine गोली बस छू के निकल गई है।वो दवाई देकर चले गए।
तबी एक रुबाबदार आदमी सीढियो से उतरकर नीचे आया,देखने मे उम्र थी पर रुतबा महाराजाओ वाला ।उन्होंने अमन को देख कहा:-"hi, young men!!हम आपको जानते है पर आप शायद हमारे बारे में नही जानते,हम जैसलमेर के हुक़ूमसा ,"शिवराज सिंह राजावत" है।और ये हमारा महल।
अमन ने सुना और कहा:-जी सर.!सुुुना है आपके बारे मेंं ,पर मिल नही पाया आपसे।
तो अब मिल लीजिये ये कहते हुए एक औरत नोकर के साथ वहां आई।राजस्थानी लहँगा,मंगलसूत्र,कनगंभरे हाथ,देखते ही पता चल जाये कि वो रानी है कही की,उसे देख अमन ने कहा;आप हुक़ूमरानीसा है ना।
शिवराज जी ने कहा:-ये सही है हमे नही हमारी पत्नी को जानते हैं आप।
अमन:-नही,सर् वो देखकर अंदाज़ लगा लिया।
शिवराज जी:-वैसे आप का अंदाज़ा भी सही है,ये हमारी पत्नी है, गायत्री शिवराज सिंह राजावत
गायत्री जी ने नोकर की ट्रे से हल्दीवाला दूध लेकर अमन को देते हुए कहा:-आप हमें आंटी कहेंगे तो हमे अच्छा लगेगा।वैसे भी बहुत है हुक़ूमरानीसा कहने वाले।
अमन मुस्कुरा दिया ।उसे लानेवाले ने कहा:- क्या मा-पापा आप भी।फिर अमन की तरफ देख के कहा:-में "शिवांश सिंह राजावत" हूँ।जैसलमेर का कुवरसा ।
अमन ने अबतक उसे गोर से नही देखा था।अच्छी हाइट ,कसरती बदन,चोड़ी छाती,गोरा रंग बहुत अच्छा फेस कट ऊपर हल्की ट्रिम की हुई पतली मूछ।सेट किये हुए बाल और गहरी काली आंखे देखने मे सचमुच राजकुमार ही दिखता था।अमन ने उसकी आँखों पर गौर करते हुए मन में कहा:-इसकी आंखे ,मुझे किसी की याद दिला रहे है।पर किस की ऐसा क्यों लगता है जैसे मेने पहले भी देखी है, पर कहां.?फिर उसने सर झटक दिया।
शिवांश:-अमन जी अभी आपको आराम की जरूरत है।आपके सबी सवालो के जवाब आप को मिल जाएंगे।में खुद दूंगा पर अभी नही,अभी आप आराम करें., प्लीज..!
उसने एक नोकर को आवाज दी वो आया और सलाम बजा कर बोला:-जी.,कुंवरसा।
शिवांश:-इन्हें मेहमान कक्ष में ले जाओ। ओर ख्याल रहे ये हमारे खास मेहमान है ,इनकी खतरदारी अच्छे से की जाए। अमन उसके साथ चला गया।

(बनारस)--

शीवांगी अभी रुद्राक्ष से ही फोन पर बात कर रही थी।
शीवांगी😞:- पता है, हमे इतनी टेंशन है।कल से exam है वैसे तो हम अच्छे से पढ़ाई करते है पर इस बार इतनी टेंशन क्यों हो रही है।

रुद्राक्ष😅:-अरे,बाबा ठीक है।आप पहले शांत तो हो जाइए।

शीवांगी🙄:-ऐसे कैसे शांत हो जाये आप नही जानते..,

रुद्राक्ष:-आप के exam है,आपको टेंशन है,वगरह..,वगेरह..!वो हँसने लगता है😃😆फिर उसने कहा पिछले आधे घंटे से में यही सुन रहा हूँ।😆😆

शीवांगी😡:-आपको हँसी आ रही है।हमारी टेंशन से कोई फर्क नही पड़ता आपको ,आप बहुत बुरे है, नही बात करते हम आपसे।

रुद्राक्ष☺️:- अच्छा.., नही हँस रहे हैं।बस sorry माफ कर दीजिए ।

शीवांगी🙂:-हम्म,,!

रुद्राक्ष🤗:-टेंशन मत लीजिये ।मुझे यकीन है आप बहुत अच्छा करेंगी exam में।

रुद्राक्ष ने इतने प्यार से कहा कि शीवांगी के चेहरे पर मुस्कान आ गई।

शीवांगी:-सच्ची..,

रुद्राक्ष:-मुच्ची,,।उसने हँसते हुए कहा।

शीवांगी:-अच्छा, आप सो जाएं हमे कुछ नोट्स स्टडी करने है।खामखा आपको परेशान कर दिया हमने।

रुद्राक्ष:-आप कभी मुझे परेशान नही करती है।और एक बात आप टेंशन नही लेंगी.,ok।। all the best for ur exam।

शीवांगी:-शुक्रिया।कहकर उसने फोन रख दिया।

(Rajasthan )-जैसलमेर का महल,सुबह का वक़्त।

अमन रेडडी हो चुका था।जैसे ही वो नीचे आया तो एक नोकर ने आ कर कहा:-जी,वो कुवरसा आपका गार्डन एरिया में वेट कर रहे है।आइये,,वो उसके पीछे चल दिया।गार्डन बहुत खूबसूरत था।
वही चेयर ओर टेबल के पास शिवांश था।
शिवांश:-आइये अमनजी ..!good morning ,
अमन:-very good morning, कुवरसा but प्लीज आप मुझे अमन ही कहे ये जी कुछ अजीब लग रहा है मुझे।
शिवांश😀:-ठीक हैं।पर आप भी मुझे शिवांश कहिये कुवरसा नही।..!
अमन:- ok.., कु..,मतलब शिवांश.
दोनो हँस पड़े ।फिर दोनों ने चाय- नास्ता किया।कुछ बाते भी की तभी शिवांश ने कहा,तुम इस काली के बारे में क्या जानते हो?
अमन:-ज्यादा कुछ नही ,पर जब मैने ड्यूटी जॉइंट की थी तब पता चला कि सब दंगे ओर दहसत के पीछे उसी का हाथ है।इसलिये पकड़ने का सोचा पर आप लगता है आप बहुत कुछ जानते हैं।काली के बारे में..,
शिवांश:-हा.., उसने बहुत कुछ छीना है हमसे।ये कहते हुए उसकी आँखों मे गुस्सा उत्तर आया था।और मुठिया भी भीच ली।
अमन ने उसके हाथ पर हाथ रखते हुए कहा:-अगर दोस्त समझ के कुछ शेयर कर सकते हो।में जानना जरूर चाहूंगा।
शिवांश ने उसका हाथ थामते हुए एक लंबी सांस छोड कहा:-तुम जैसे दोस्त की मुझे जरूरत है ,अमन। उस काली की वजह से मेने अपनी मेरी बहन को खो दिया।
फिर कुछ देर बाद शिवांश ने उठते हुए कहा,आओ मेरे साथ।ये कहके वो अमन को एक कमरे में ले गया।







....…...............बाकी अगले पार्ट में......!!




Rate & Review

Saroj Bhagat

Saroj Bhagat 5 months ago

Harsh Parmar

Harsh Parmar Matrubharti Verified 10 months ago

Priya Sharma

Priya Sharma 10 months ago

Suresh

Suresh 11 months ago

Usha Dattani Dattani