aughad kisse aur kavitayen-sant hariom tirth - 11 in Hindi Social Stories by ramgopal bhavuk books and stories PDF | औघड़ किस्से और कविताएँ-सन्त हरिओम तीर्थ - 11

औघड़ किस्से और कविताएँ-सन्त हरिओम तीर्थ - 11

औघड़ किस्से और कविताएँ-सन्त हरिओम तीर्थ 11

एक अजनबी जो अपना सा लगा

परम पूज्य स्वामी हरिओम तीर्थ जी महाराज

सम्पादक रामगोपाल भावुक

सम्पर्क- कमलेश्वर कॉलोनी (डबरा) भवभूतिनगर

जि0 ग्वालियर ;म0 प्र0 475110

मो0 9425715707, , 8770554097

दिनांक‘6.10.12 को साँय 6 बजे मैं डॉ0 के0 के0 शर्मा के यहाँ प0पू0 स्वामी गोपाल तीर्थ जी महाराज के स्वास्थ्य के वारे में जानकारी लेने पहुँचा। डॉ0 के0 के0 शर्मा ने महाराज जी को फोन लगाया। महाराज जी बोले- ‘इस समय मैं जल्दी में हास्पीटल जा रहा हूँ। डाक्टरों ने स्वामी जी के बारे में जबाब दे दिया है। ’यह कह कर महाराज जी ने फोन डिस्कनेक्ट कर दिया। हम समझ गये , प0पू0 स्वामी गोपाल तीर्थ जी महाराज की स्थिति ठीक नहीं है। मैं गुम सुम अपने घर चला आया था। सोचता रहा-महाराज जी का फोन आयेगा तो मैं वहाँ के लिये रवाना हो जाउँगा किन्तु फोन नहीं आया।

दूसरे ही दिन चित्रकूट परिक्रमा का क्रम आ गया। मैं 9.10.12 को चित्रकूट चला गया। वहाँ से लौटते समय डॉ0 के0 के0 शर्मा का फोन मिला’ प0पू0 स्वामी गोपाल तीर्थ जी उसी समय चले गये थे जब आपके सामने मेरी गुरुदेव से बातें हुर्हं थीं। यह सुन कर धक्का सा लगा । एक महापुरुष का सानिध्य हमसे छिन गया है।

0000000

महाराज जी दिनांक 27.10.12 को डबरा आश्रम पर लौट आये। मैं दर्शन करने आश्रम पर पहुँचा।महाराज जी के शिष्यों का आना-जाना चल रहा था। प0पू0 स्वामी गोपाल तीर्थ जी महाराज के नर्मदा जी में जल प्रवाह के छाया चित्र देखने को मिले। यों अपनी अनुपस्थिति का इस पुण्य अवसर से तादाम्य स्थापित करके संतोष कर सका। प0पू0 स्वामी गोपाल तीर्थ जी महाराज का षौडशा कार्यक्रम का आमंत्रण पत्र देखने को मिला। उसे संत परम्परा की षौड़शा का आमंत्रण पत्र होने के कारण इस कृति में स्थान दे रहा हूँ।

आपको यह विदित किया जा रहा है कि शक्तिपाचार्य ब्रह्मलीन परमपूज्य स्वामी श्री शिवोम् तीर्थ जी महाराज जी के शिष्य दंडी स्वामी श्री गुरुदेव स्वामी गोपाल तीर्थ जी महाराज( श्री गंगाधर तीर्थ ज्ञान साधना कुटी, ग्राम किटी जिला देवास, रायपुर, भद्रावती एवं गरोठ आश्रम के संस्थापक) दिपांक 06.10.12 अश्विन बिदी षष्ठमी को ब्रह्मलीन हो गए हैं।

मान्य परम्पराओं के अनुसार महाराज जी का षौड़शा कार्यक्रम शक्तिपात के वरिष्ठ सन्यासी स्वामी श्री हरिओम् तीर्थ जी के मार्ग दर्शन तथा दंडी स्वामी श्री सुरेशानन्द तीर्थ महाराज जी के सानिध्य में दिनांक 21 अक्टूबर 2012 रविवार, अश्विन सुदी सप्तमी को माँ नर्मदा तट पर स्थित श्री गंगाधर तीर्थ ज्ञान साधन कुटी, ग्राम किटी तहसील-सतवास, जिला देवास में आयोजित होगा, जिसमें आप सादर आमंत्रित है।

दिनांक 21 अक्टूबर 2012 के विस्तृत कार्यक्रम निम्नानुसार रहेगा-

1.उषाकाल 4बजे से 6 बजे तक-सामूहिक साधन

2.प्रातः7बजे से 8 बजे तक -स्वल्पाहार

3. प्रातः8.30बजे से -रुदाभिषेक

4. प्रातः9बजे से माँ नर्मदा का पादपूजन

5. प्रातः10बजे से महाराज जी को पुष्पांजली

6. दोपहर 12.30 से षोड़श् सन्यासियों का पूजन, कन्याभोज तथा भण्डारा

समस्त साधक गण

श्री गंगाधर तीर्थ ज्ञान साधन कुटी,

ग्राम किटी तहसील-सतवास, जिला देवास(म0प्र0)

सम्पर्क सूत्र-1.स्वामी श्री सुरेशानन्द तीर्थ जी महाराज

-मो0-9977968108

2.श्री जगदीश व्यास- मो09893464904, 9754820693

3.श्री मांगीलाल पटेल7 मो08120283760,9826290498

ग्राम-धंसाड़, जहसील-सतवास

00000

दिनांक 7.11.12 को मैं पुनः चित्रकूट से लौट रहा था। महाराज जी सांय सात बजे फोन मिला, तिवाडी जी हरीहर जी चले गये। मुझे इस की कतई सम्भावना नहीं थी। आधात सा लगा। तीन माह के अन्दर गुरुदेव को यह तीसरा झटका था। किन्तु वे यह कहने में पूरी तरह सामान्य लग रहे थे। प्रभू की लीलायें हैं कब कौन सी लीला करना है यह तो वे ही जाने। चिरसत्य को कौन नकार सकता है।

पं0 हरीहर स्वामी जी महाराज जी के सबसे छोटे भ्राता हैं। छोटे होने के कारण सबसे प्यारे भी रहे हैं। इकहरा बदन ,छरहरा शरीर ,मन मोहक व्यक्तित्व जिसे देखते ही रहें।वे एक श्रेष्ठ कवि भी थे। उनसे मुझे उनकी रचनायें सुनने का अवसर मिला है। गहरे चिन्तक एवं श्रेष्ठ साधक रहे हैं। भिवानी, हरियाण ही उनका कार्य क्षेत्र रहा है। वहाँ उनके अनेक शिष्य साधना में लगे हैं। वे सभी साधनारत है। वे जीवन भर उनको साधना के लिये प्रेरित करते रहे।

स्वामी जी ने गीता का पद्य अनुवाद भी किया है। जिसका उपयोग मैं अपनी नित्य पूजा में करता हूँ। मेरे इष्ट गौरी बाबा ने कहा है कि कोई पूजा न कर पाओ तो गीता के छठवे अध्याय का पाठ कर लिया करो। तभी से मैं स्वामी जी की इस कुति का पाठ कर रहा हूँ। मै जब भी पाठ करता हूँ, स्वामीजी का स्मरण अवश्य आ ही जाता है। यही उनके प्रति मेरी सच्ची श्रद्धान्जलि है।

गुरुदेव की संकल्प शक्ति

गुरुदेव की सम्पूर्ण कहानी में उनके वाह्य जीवन के वारे में ही बातें कहता रहा हूँ। उनकी साधना पद्धति, उनकी अनुभूतियों के वारे में मेरी जानकारी शून्य ही रही है। उनकी संकल्प शक्ति वारे में जो कुछ भाषित होता रहा है उसके वारे में कुछ कहने का प्रयास कर रहा हूँ। गुरुदेव इस दुस्साहस के लिये क्षमा करेंगे।

गुरुदेव जब भी किसी को याद करने लगते, मैंने देखा है, उसी समय उसका फोन आजाता अथवा वह स्वयं उपस्थित होजाता। गुरुदेव एक ही शब्द कहते, मैं अभी अभी अपकी ही याद कर रहा था। कभी कभी वे किसी की चर्चा कर रहे होते और उसी समय उसके फोन की घन्टी बनजे लगती। वे फोन उठाते हुये कहते- मैं इस समय तुम्हारी ही चर्चा कर रहा हूँ। ऐसे संयोग मैंने उनकी संकल्प शक्ति के अनेक वार अनुभव किये हैं। वे जब जिसे याद करते हैं , तत्क्षण प्रतिउत्तर मिल जाता है।

इस समय योगेन्द्र विज्ञानी जी के शब्द याद आ रहे हैं-‘जब मन आत्मा के सन्निकट होता है तो मन के संकल्प फलीभूत होते हैं। यह स्वाभाविक बात है।’मैं महसूस कर रहा हूँ- गुरुदेव की संकल्प शक्ति चमत्कारित है।वे हमारें मन को दर्पण की तरह पढ़ लेते हैं। मैं उन्हें सत् सत् वार प्रणाम करता हूँ।

दिनांक 28.8.14 समय 11.34 पर महाराज जी का मेरे मोवाइल पर यह संदेश मिला-

हर रोज जब भी समय मिले सिर्फ पाँच मिनिट आँखें बन्द करके खुद से पूछना तुम कौन हो और कहाँ हो। तुम ये शरीर नहीं हो,ये तो घर है जिसमें तुम रहते हो, तुम एक शाश्वत सत्य हो मिथ्या नहीं। कभी उदास मत हो।

इसके बाद दिनांक 10.9.2014 को यह संदेश मिला-

सभी नाम उसी के हैं, सभी रूप उसी के है, सभी घाम उसी के हैं, सभी काम उसी के हैं। जरूरत श्रद्धा और विश्वास की है उपासना के तरीके बेशक भिन्न हो।

15.9.14 को समय 10.12 बजे भी एक संदेश मिला-

‘ रामराघव रामराघव रामराघव रक्ष माम्। कृष्ण केशव कृष्ण केशव कृष्ण केशव कृष्ण यदुपति पाहिमाम्।

उन संदेशों को क्रम से पचाने का प्रयास कर रहा हूँ। वे चाहते हैं कैसे भी उनके शिष्यों का कल्याण हो।

दिनांक 31.12.14 को भी यह संदेश मिला-‘विसंगतियों को अलविदा ,नयीं उपलब्धियों का स्वागत और आभार, प्रभू सदाँ कृपावन्त रहें। नारायण हरि।

दिनांक 7.1.15 को भी गुरुदेव का संदेश मिला-आध्यात्म नितान्त व्यक्तिगत ब्षिय है। इसे समझने के लिये अपने अहंकार का तुरन्त त्याग करके किसी गुरू की शरण में जाना पड़ेगा। उनके समक्ष पहुँचते ही मन अपनी चंचलताओं का त्याग करके शान्त हो जाये। उनसे मार्ग दर्शन के लिये याचना करनी चाहिये। 10.37 ए0एम0 1.1.15

दो तीन वर्ष तक रचना अपना अस्तित्व बचाने के लिये जहाँ की तहाँ थमी रही। दिनांक 17.4.17 को महाराज जी के पास मैं गया था । वे बोले-‘ तुम्हारी रचना में एक कमी रह गई है।’

मैंने कहा-‘ आदेश करें।

महाराज जी बोले-‘ इसमें मेरे द्वारा गुनगुनाये भजन कहीं नहीं दिख रहे हैं।’मुझे महाराज जी की बात भा गई। एक दिन महाराज जी की डायरी में से कुछ रचनाओं के फोटो प्रति गुरुदेव की कृपा से उपलब्ध हो गई है। महाराज जी से इस भजन को मैंने अनेक वार मधुर स्वर में गुन गुनाते सुना है-

अरे मन काहे कुगत करे,

मुड़ मुड़ जाये विषयन में उलझे, तोहे न समझ पड़े।

खुद भटके मोहे भटकावे, कैसो जुल्म करे,

सबरे जतन कर हार थक्यो में, अजहुँ न चेत करे।

बरबार विषयन में भटके, तिनको ही ध्यान करे,

कुछ तो सोच अरे जड़ मूरख, क्यूँ बिन आई मरे।

कोरो ज्ञान बघारे जग में, नाना ढ़ोंग करे,

बहुरुपये सा साँग रचाये, नित नये रूप धरे

जिन विषयन में रस तू खोजत वे सब विष के भरे,

गुरु चरणन से अमृत निकसत काहे न पान करे।

इसी तरह उनका एक यह गीत भी हमारे मन को झंकृत कर सकता है-

राम को बुलाओ, मेरे श्याम को बुलाओ,

श्याम को बुलाओ, घनश्याम को बुलाओ,

जगत का झूठा जाल,झूठे यह प्रपंच भारी,

तोड़े नहीं टूटे बन्धन, भारी यह विपदा आई,

रो रो में बुलाओ मेरे, राम को बुलाओ कोई।

राम को बुलाओ, घनश्याम को बुलाओ।।

मनुआ तड़प रहा, अंखियाँ तरस गई,

चैन पड़त नहीं, अग्नि धधक रही,

ऐसे में बुलाओ , मेरे राम को बुलाओ कोई।

राम को बुलाओ, घनश्याम को बुलाओ।।

डगमग डगमग डोले नैया, गहन अंधेरा छाया,

राह न सूझे कोई, जरजर मेरी काया,

ऐसे में बुलाओ मेरे, राम को बुलाओ कोई।

राम को बुलाओ, घनश्याम को बुलाओ।।

सबरो श्रंगार भयो,डोलिया तैयार भई,

द्वारे बराती ठाड़े, अब कुछ देर नहीं,

ऐसे में बुलाओ मेरे, राम को बुलाओ कोई।

राम को बुलाओ, घनश्याम को बुलाओ।।

बाजने बाजन लागे, ले डोलिया कहार आये,

अब कैसें धीर धरूँ, कहाँ मेरे राम ठाड़े,

ऐसे में बुलाओ मेरे, राम को बुलाओ कोई।

राम को बुलाओ, घनश्याम को बुलाओ।।

गृरुदेव शिवोम् तीर्थ जी महाराज जी का एक यह गीत इन दिनों महाराज जी गुन गुनाया करते हैं। इसे आप भी गुनगुनाकर देखें-

मैं प्रेम में पूजा भूल गई, कछु याद भी मुझको ना ही रहा।

कब क्या करना कुछ क्या कहना, कुछ होश भी मुझको नाही रहा।।

पुस्तक का अब कुछ काम नहीं, नहीं तर्क वितर्क से कुछ लेना।

अब शिष्टाचार भी गौण हुआ, है काम किसी से ना ही रहा।।

प्रभु आये मेरे घर मांही,सत्कार भी करना भूल गई।

मैं प्रेम मगन ऐसी होई, आवो बैठो भी ना ही रहा।।

न जगत से लेना कुछ बाकी, है देना मुझको याद नहीं।

अब क्या है लेना क्या देना, लेना देना मन ना ही रहा।।

प्रभु छोड़ो अब खैचातानी, चल प्रेम नगर में वास करें।

यह जगत‘शिवोम् तो छूट गया, अब भेगों में रस ना ही राहा।।

गृरुदेव शिवोम् तीर्थ जी महाराज जी का एक यह गीत भी इन दिनों महाराज जी गुन गुनाया करते हैं। इसे भी आप गुनगुनाकर देखें-

तुम को छोड़ कहाँ मैं जाऊं,

तेरे सम है दूजा नाहीं, कैसे दूजा ध्याऊं।

दूजे के दुःख दुःखी जो होवे, ऐसा है कोई नाहीं,

अपना दुःखड़ा किसके आगे जाकर उसे सुनाऊं।

अपने सुख में जग है लागा,दूजे का दुःख नाहीं,

ऐसे जग को कह कर बिरथ, अपना भ्रम गॅवाऊं।

तुम ही एक हो मेरे अपने, है दूजा को नाहीं,

एक भरोसा तेरा प्रभुजी, तुम पै ही कह पाऊं।

तुम हाक अन्तर्यामी ऐसे, अन्तर की जानत हो,

अपने मुख से काहे बोलूं, कैसे मैं कह पाऊं।

‘तीर्थ शिवोम्’ सुनो भगवन्ता, तुम सौं आस लगी है,

चाहे मारो चाहे तारो, तुम पै ही मैं आऊं।

गुरुदेव शिवोम् तीर्थ जी महाराज जी का एक यह गीत भी इन दिनों महाराज जी गुन गुनाते सुना हैं। इसे भी आप गुनगुनाकर देखें-

मैं क्या खोलूँ तेरे आगे बतियाँ।

जो जो दुखः सहे है मैंने, लिख लिख भेजूँ पतियाँ।

तेरे बिन कुछ सूझत नाहीं, तुमरे ही मन जाये,

नींद न नयनन, भूख न लागत,जागत निकलत रतियाँ।

सग मतवाले जगत सुखों के, पी का ध्यान किसे ना,

तुमरी बात करूँ जिस आगे, करत व्यर्थ की बतियाँ।

प्रेमी -भोगी साथ निभे ना, मेल न कहीं मिलत है,

जब मन होता बहुत व्यथित है, तुम को लिखती पतियाँ।

‘तीर्थ शिवोम्’ मैं पायें लागूं, अपने पास बुलालो,

मैं तो पड़प तड़प रह जाऊं, सोचत रहती बतियाँ।

अब मैं महाराज जी के लधु भ्राता हरिहर स्वामी जी का एक भजन गुन गुना रहा हूँ। आप भी मेरे साथ इस भजन को गुन गुनाकर देखें-‘

शऊरे सजदा नहीं है मुझको, बस तेरे दर पे मैं आ गया हूँ,

सर पे गुनाहों का रख बोझ भारी, गुनाहों से तोबा कर आ गया हूँ।

खाई है ठोकर, दर दर की मैंने, अब हार तेरे दर आ गया हूँ,

ठुकरा न देना, मुझको ऐ मालिक, खा खा के ठोकर तंग आगया हूँ।

उम्र गुजारी है, सजदे किये ना, अल्लाह रहमकर तडघ़्पा गया हूँ,

दे दे सहारा अब हरिहर को मौला, दुनियाँ से तेरी घबरा गया हूँ।

अब मैं महाराज जी के मुखार विन्द से सुने इन दो भजानों को आपके समक्ष प्रस्तुत कर रहा हूँ। इन्हें भी आप गुन गुनाकर देखें-

ऐसो रतन मैं पायो सतगुरु ऐसो रतन मैं पायो।

छुनन छुनन छन मनवा नाचे, ऐसो साज न बजायो।।

अंग अंग सब फडकन लागे, अद्भुत नाच नचायो।

कण कण में सब स्वर गूँजन लागे, ऐसो राग सुनायो।।

लोग कहें बौरा गयो यह तो, मैं कहूँ जग भरमायो।

तन की सुधबुद्ध कैसे राखूँ, जग ही सब विसरायो।।

काशी गयो,अजुध्या भटको, सबरे ठौर कर आयो।

गली गली के पाथर पूजे, फिरो यूँही भरमायो।।

खोजत फिरो जगत के माँहीं, पर कहूँ दीख न पायो।

मेरो साँई अन्तर माँहीं,नयन मूँद दर्शायो।।

नयन मूँद चौबारे चढ़ गयो, ऐसो दृश्य दिखायो।

सद्गुरु ऐसी किरपा कीनी, क्षण में ही अलख लखायो।।

इसी तरह महाराज जी के मुखार विन्द से सुना एक भजन यह भी-

यह मन मानत नाहीं, प्रभु जी यह मन मानत नाहीं,

इतउत फिरेजगत में उलझे,सोचत समझत नाहीं।।

कैसे कहूँ बहुत समझाऊं, पकड़ पकड़ कर लाऊं,

या की बात कहूँ ही प्रभु जी,लाख याहे बरजाऊं,

मोरे जतन सब व्यर्थ भये अब, पर यह चेतत नाहीं।।

लाख चौरासी भटक भटक कर, यह नर जीवन पायो,

सवरी काट दई विषयन में, अब भी है भरमायो,

कौन उपाय करूँ अब गुरुवर, सूझ पड़त कछु नाहीं।।

000000

Rate & Review

ramgopal bhavuk

ramgopal bhavuk Matrubharti Verified 8 months ago

Ratna Pandey

Ratna Pandey Matrubharti Verified 8 months ago

Prem chand Sinha

Prem chand Sinha 8 months ago