Environment of the World - 2090 in Hindi Science-Fiction by Rahul Narmade ¬ चमकार ¬ books and stories PDF | विश्व का पर्यावरण - 2090

Featured Books
  • મારા અનુભવો - ભાગ 3

    ધારાવાહિક:- મારા અનુભવો ભાગ:- 3 શિર્ષક:- અતિથિ દેવો ભવ લેખક:...

  • ચુની

    "અરે, હાભળો સો?" "શ્યો મરી જ્યાં?" રસોડામાંથી ડોકિયું કરીને...

  • આત્મા નો પ્રેમ️ - 8

    નિયતિએ કહ્યું કે તું તો ભારે ડરપોક હેતુ આવી રીતે ડરી ડરીને આ...

  • નિસ્વાર્થ પ્રેમ

    તારો ને મારો એ નિસ્વાર્થ પ્રેમ ની ભાવનાયાદ આવે છે મને હરેક પ...

  • ચા ના બે કપ

    જીવનમાં સભ્યતા ની બાબતમાં એક ગરીબ સ્ત્રી એક ગોલ્ડ મેડાલીસ્ટ...

Categories
Share

विश्व का पर्यावरण - 2090

"पापा, आप बाहर नहीं जा सकते, अरे समझने की कोशिश कीजिए डॉक्टर ने मना किया है, दिन हो या रात आप 15 दिनों तक बाहर नहीं जा सकते" रोहित ने कहा।

दोपहर एक बजे 90 साल के सुधीर मिश्रा बाहर जाने की जिद कर रहे थे, उनका बेटा रोहित उन्हें बाहर जाने से रोक रहा था, तभी रोहित की मां और सुधीर मिश्रा की पत्नी 89 साल की वंदना मिश्रा भी वहां आ गईं.

वंदना: "अरे, आप बाहर जाने की जिद क्यों कर रहे हैं? आप यह क्यों नहीं समझते कि बाहर हिट वेव है? अभी एक महीने पहले ही अस्पताल से छुट्टी मिली है।" रोहित ने सुधीर जी को समझाया और सोफ़े पर बैठाया।

यह भारत वर्ष 2090 का दृश्य था, मिश्रा परिवार गुजरात के गांधीनगर में रहता था, पृथ्वी का तापमान बहुत बढ़ गया था, ओजोन लेयर लगभग विघटित होने के कारण, सूर्य से आने वाली नुकसान करनेवाली UV किरणें सीधे पृथ्वी पर पड़ रही थीं जिससे पृथ्वी का तापमान 2.5 डिग्री बढ़ गया। यह स्थिति पिछले 5 वर्षों से बनी हुई है जिसके कारण भारत सरकार ने काम के घंटों में भारी बदलाव किया है। उन बदलावों के अनुसार, सरकारी कार्यालय, स्कूल, कार्यालय, सेवा संस्थान, अस्पताल, दुकानें, सभी निजी क्षेत्र के संस्थान और कंपनियां आदि शाम 7 बजे खुलेंगे और अगले दिन सुबह 7.45 बजे तक खुले रहेंगे, जहां उन्हें ज्यादा से ज्यादा 8.30 बजे तक बंद करना होगा। सुबह 8.30 बजे से सब कुछ सख्ती से बंद कर दिया जाता था, सरकार आम नागरिकों को इन बंद के घंटों के दौरान घर से बाहर निकलने पर सख्त मना था।

वर्ष 2084 में WHO द्वारा इस प्रकार के कानून के लिए दिशानिर्देश प्रकाशित करने के बाद से दुनिया के लगभग सभी देशों ने एक ही कानून लागू किया था और पिछले 5 वर्षों से लोग इसी तरह रहने के आदी हो गए थे, लोग दिन में आराम करते और रात को काम करते। रात के समय भी ठीक 7.00 बजे सभी लोग बाहर निकल जाते थे एसा नहीं था, सरकार के द्वारा हर दिन शाम के वक्त उस दिन का रेडिएशन लेवल चेक किया जाता था और एक फिक्स टाइम दिया जाता था उसी टाइम के बाद से लोग बाहर निकल सकते थे, मुख्य रूप से 7.00 से 7.15 के बीच रेडिएशन कम हो जाती थी और लोग बाहर निकला करते थे।

65 वर्षीय डॉ. रोहित मिश्रा एक जीव वैज्ञानिक थे, उनके पिता सुधीर मिश्रा 90 वर्षीय सेवानिवृत्त शिक्षक थे, उनकी 89 वर्षीय माँ वंदना मिश्रा एक गृहिणी थीं। डॉ रोहित मिश्रा की पत्नी डाॅ. दीक्षिता मिश्रा जीव विज्ञान की शोधकर्ता भी थीं। 1 महीने पहले सुधीर मिश्रा के साथ एक्सीडेंट हुआ था, नियम था कि अगर कोई व्यक्ति दिन में घर से बाहर यूवी रेडिएशन में जाना चाहता है तो उसे पूरे शरीर को ढकने के लिए कपड़ों के ऊपर एक खास सूट पहनना होगा, जिसका नाम है वह सूट "यूवी प्रोटेक्टिव सूट" था और उसे पहनना थोड़ा मुश्किल था, एक बार रोहित और दीक्षिता घर पर नहीं थे और बाद में उन्हें एटीएम मशीन से पैसे निकालने जाना था, उन्होंने पहने हुए कपड़ों के ऊपर सूट पहनने की कोशिश की लेकिन जैसे ही वे बाहर निकले, सूट खुल गया और UV किरणें सीधे उनकी त्वचा पर पड़ीं, जिससे उनके हाथ, पैर और चेहरे पर सूजन शुरू हो गई, जिसके चलते उन्हें 3 दिनों के लिए हॉस्पिटल मे एडमिट करना पड़ा था। उनकी उम्र को देखते हुए डॉक्टर ने उन्हें डेढ़ महीने तक दिन या रात बाहर न निकलने और इस पर सख्ती से अमल करने की सलाह दी।

अब यह नजारा था सुधीर मिश्रा के घर का, दिन में सभी लोग गहरी नींद में सोए थे, शाम 5 बजे सभी लोग उठे और सुबह की दिनचर्या के अनुसार अपने दिन की शुरुआत की, रोहित का मन अपने पिता की तरह कहीं नहीं लग रहा था। बाहर जाने से रोकने के लिए उसे रोहित को भी अच्छा नहीं लग रहा था, शाम 7.20 बजे सरकार रेडिएशन कम होने की घोषणा की और लोगों को बाहर निकलने की परमीशन दी, रोहित रात 8.30 बजे बाहर गए, उनके कॉलेज के दिनों के सबसे अच्छे दोस्त, डॉ. शिवम राजपूत के घर की ओर अपना स्कूटर मोड़ दिया। शिवम के घर जाकर उसने दरवाजे की घंटी बजाई, उसने ने दरवाजा खोला। शिवम राजपूत एक सुंदर और लंबा व्यक्ति था, उसका लंबा और हट्टा कट्टा शरीर होने के कारण पहली नजर में किसी को भी एथलेटिक्स चैंपियन जैसा दिखता था, उसने रोहित के साथ एक ही कॉलेज में पढ़ाई की थी लेकिन दोनों के विषय अलग-अलग थे, शिवम ने Environmental Biotechnology में M. Sc और Ecology मे Ph. D की थी। रोहित और शिवम की दोस्ती बहुत अच्छी थी, दोनों ने एक दूसरे के बुरे वक्त में साथ दिया, अब बुरा वक़्त रोहित का था। शिवम ने रोहित का स्वागत किया, उसे सोफे पर बिठाया और हलचल से पूछा:

शिवम: रोहित, पहले ये बता की अंकल का क्या हाल है?

रोहित: पापा को अभी भी रेडिएशन का थोड़ा असर है, अभी 15 दिन का क्वारेंटाइन पीरियड बाकी है। हां, लेकिन भाभी और अंकल-आंटी कहां हैं?

शिवम: वो हमारे एक रिश्तेदार के घर गए हैं और बताओ कैसे हो तुम?

रोहित: यार, शिवम मैं दिन और रात के इस उल्टे क्रम से थक गया हूँ।

शिवम: सच है, मुझे याद है एक समय था जब रात होती थी तब आदमी चैन की नींद सोता था, आज वही आदमी रात होते ही उठ जाता है।

रोहित: रात इंसान के सोने के लिए होती है, शहर में भी इंसान रात में जागता है, लेकिन गांव में जब रात हो जाती है तब इंसान खुले आसमान के नीचे सो जाता हैं। पापा को भी गाँव की बहुत याद आती है, जब से ये प्रॉब्लम आया है तब से वे गांव गए नहीं हैं।

शिवम (क्रोधित): आज की इस स्थिति के लिए हमसे आगे की पीढ़ियाँ जिम्मेदार हैं!! नदियाँ घट रही हैं, अंटार्कटिका महाद्वीप पर बर्फ पिघल रही है, दिन की बजाय रात में काम करना पड़ रहा है। 20वीं और 21वीं सदी में केवल औद्योगीकरण को महत्व दिया गया, लेकिन किसी ने भी पर्यावरण की रक्षा नहीं की, यही कारण है कि आज हमें इसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा है।

रोहित: सच है भाई, मैंने स्कूल में इतिहास पढ़ा है, जो भी उद्योग खोलना चाहता था या फैक्ट्री लगाना चाहता था, उसने पैसे या रिश्वत देकर ही ऐसा किया और जिसने भी आवाज उठाई उसे दबा दिया जाता था |

शिवम: आज जब इतने महीनों से यह विनाशलीला हो रही है तो अब यही कहा जा सकता है कि दुनिया अंधकार में डूब गई है।

दोनों के बीच ऐसी ही चर्चाएं हो रही थीं, यही समस्या दुनिया में भी हो रही थी, न केवल भारत में बल्कि दुनिया में भी बड़ी-बड़ी नदियां सूखने की कगार पर थीं, लोग बारिश का पानी बचाकर उसे साल भर चला रहे थे, सूरज होने के बावजूद भी दुनिया अंधेरा छा गया था और इंसानों की जिंदगी पर भी अंधेरा छा गया था |


To be continued....