×

Hey, I am reading on Matrubharti!

दूरियों " का ग़म नहीं अगर "फ़ासले" दिल में न हो l

नज़दीकियां" बेकार है अगर जगह दिल में ना हो ।