Welcome to DK"s World...

हर शख्स हर शख्सियत को यहां ...
कहां समझता है ..

अपनी मुश्किलें तमन्नाएं कोई और कहां ...
समझ पाता है ...

आंखों के ख्वाब ...
अरमां बेताब ...
सब कुछ हां सब कुछ जनाब ...
दिल के पत्थर में ही समा जाता है...

यू मान लिया जाए की...
जिंदगी हालात और जज्बात के बीच एक..
कच्चा समझौता है...

Read More

बारीश... सर्दी... उडी हुइ नींदे... करवटें...

गाढी धुंध... सीली हवा... घनघोर पेडों की लटें...

वहां तुम... यहां हम...
बेचैन दिल... लंबा सफर...

और बीच में ये दिलकश दिसम्बर...

Read More

शब्दों के तीर सीने को छल्ली ना कर दे ....

हसती आंखो में कंही पानी ना भर दे ...

ये इश्क नामा है जरा संभलकर पढीयेगा ...

यादों को भारी, नींदो को खाली ना कर दे ....

Read More