Hey, I am reading on Matrubharti!

क्यों देखे तिरछी नजर से मुझे,
इससे अच्छा है प्यार ही कर ले मुझसे |
कबका मर मीटा है तु मुजपे,
शरमाता है क्यु केह भी दे अब मुझसे |
हर कोई जाने है हमारी कहानी,
तो छुपाना क्यु प्यार तुझको है मुझसे |
सुनना चाहु अपनी कहानी तेरी जुबानी,
केह भी दे देरकर सीतम न कर युं मुजपे |
...ॐD

Read More