एम.ए, पी-एच.डी, एल.एल.बी, एम.बी.ए., स्नातकोत्तर डिप्लोमा अनुवाद, स्नातकोत्तर डिप्लोमा गाँधीयन स्टडीज़ , स्नातकोत्तर डिप्लोमा कम्प्यूटर विज्ञान, स्नातकोत्तर डिप्लोमा हायर एजुकेशन, सर्टिफिकेट कोर्स कार्यकारी हिंदी। चंडीगढ़ साहित्य अकादमी अवार्ड - 2013

क्या लूटेगाा कोई खुशियां हमारी
हम तो खुद अपनी दुनिया मिटाये बैठे हैं
प्रेम के महज़ ढ़ाई अक्षरों में
खुद को खुद से भुलाये बैठे हैं ।

Read More

क्या लूटेगाा कोई खुशियां हमारी
हम तो खुद अपनी दुनिया मिटाये बैठे हैं
प्रेम के महज़ ढ़ाई अक्षरों में
खुद को खुद से भुलाये बैठे हैं ।

Read More

इस संसार में कोई किसी के लिये नहीं मरता
पर , महज़ सांसे लेना भी क्या जीना है यारो ।

इस संसार में कोई किसी के लिये नहीं मरता
पर , महज़ सांसे लेना भी क्या जीना है यारो ।

इस संसार में कोई किसी के लिये नहीं मरता
पर , महज़ सांसे लेना भी क्या जीना है यारो ।

इस संसार में कोई किसी के लिये नहीं मरता
पर , महज़ सांसे लेना भी क्या जीना है यारो ।

तुम्हारा मंद - मंद मुस्कराना भी गज़ब
और मुस्करा कर पलकें झुकाना भी गज़ब
दबें पांव दिल के दरवाज़े पर तक आना भी गज़ब
और
कुछ सोचकर फिर चुपचाप चले जाना भी गज़ब ।

Read More

तुम्हारा मंद - मंद मुस्कराना भी गज़ब
और मुस्करा कर पलकें झुकाना भी गज़ब
दबें पांव दिल के दरवाज़े पर तक आना भी गज़ब
और
कुछ सोचकर फिर चुपचाप चले जाना भी गज़ब ।

Read More

तुम्हारी नशीली आंखों की मधुशाला में गोते लगाने को जी चाहता है
भयावहता से भरी जिंदगी में अब मदहोश हो जाने का जी चाहता है ।

Read More

एक लंबी मगर बरबाद ज़िदगी से अ़च्छी है क्षणिक मगर आबाद ज़िदगी ।