खेलने के दिनो में हाथ में कलम थमा दी गई, औरतों के बदले हमने शब्दों से मुहब्बत की, शायरी बनानी आ गई।