दिल से सरीफ...शक्ल से भोली...समजो तो सरल ..न समजो नो कठीन सी पहली ...पगली-सी में..खुद ही खुद की दीवानी...

कुछ अपनो से हम ने दूरी बना ली है...

अब पता चला रहा है कि वो कभी हमारे अपने थे ही नही...।

-Urmi chauhan

जब सुबह सुबह ठंड हद से गुज़र जाए

ओर आपका बिस्तर कह की

मुझे छोड़ के मत जाओ

तो आपको तुरंत ही रजाई में गुस जाना चाहिए 😅😅😅

ठीक है ना.....!!😊😊👍

-Urmi chauhan

Read More

तू पतंग सा

में माँझे सी

हम दोनों के दिल बँधे इस दौर से..❣️

-Urmi chauhan

आज छतों पे इतनी भीड़ क्यों है...?

कही आज फिर थाली बजाने का कार्यक्रम तो नही है..!

अरे ये इतनी जोर से सगीत कहा बज रहा है...?

कही आज मोहल्ले में किसी की शादी तो नही है..!

ये आकाश में इतने रंगबिरंगी पंखी कहा से आये..?

कही ये कागज की पतंग तो नही है...!

जरा देखु तो...हा हा ये तो पतंग ही है...☺️

आज तो पतंगों का उत्सव है।


Happy Makarsankrati😃😃❣️

-Urmi chauhan

Read More

मुझे अपनी मातृभाषा पर गर्व है।
मुझे अपनी मातृभाषा से प्रेम है।
मुझे अपनी मातृभाषा बोलने में सबसे ख़ुसी मिलती है।
हिन्द राष्ट्र की आन बान शान है हिन्दी।

Read More

ज़िन्दागी एक ऐसा सफर है जहा हर समय हमें
कोई न कोई मुसाफिर मिलता है

वो कुछ देर हमारे साथ रहता है

अच्छे बुरे वक़्त में हमारे साथ चलता है

फिर एक वक़्त में हमें छोड़ के अपनी राह पे निकल जाता है

और हम कही कही उसे अपनी ज़िन्दागी का एक हिस्सा समझ
लेते है और उसके जाते ही एकेले पड़ जाता है

तब वक़्त को समझते हुए खुद खुद के सच्चे हम सफर बने
जिसे आपको किसी की जरूर न पड़े।।

हम हमारे साथ हमेशा रहते है।।🤗🤗

✍️Urmi chauhan✍️

Read More

#किसान दिवस