Hey, I am reading on Matrubharti!

सोचो ज़रा....
कोन कितना ज़िम्मेदार है....

हर्ष

तुम्हारे लिए में तुम्हारे उन पलों का हिस्सेदार था जो कभी तुम्हारे थे ही नही..

-हर्निल_हरि