थोड़ा सा वक्त लफजो के साथ भी

ये रास्ता .......चाहता हैं।


चलो आज फिर उन्ही यादो को छुले क्युकी,

आज फिर उन्ही रास्तो पर चलनेको जी चाहता हैं|


कुछ तुम बोलना और हम सुनेगे,कभी कभी 

इस रास्तेकी खामोशिको भी पढ़ लिया करना क्युकी,

ये हमारी बहोतसी यादे महसूस कराएगा |

हमारी वो प्यारी मस्तीसे भरी हुई नोकजोक ने,

एक बार पुराने दरवाजे पर दस्तक दी हैं |

मुझे ये सिलसिला युही जारी रखना हे क्युकी,


ये रास्ता मुझसे यादे बयान करने की इजाजत चाहता हैं |

माना की हम साथ नहीं हे,हाथ एक दूसरेके हाथ में नहीं

तो क्या हुआ ये रास्ता ही काफी हे ,

अच्छे लम्होको,फिरसे जीने केलिए क्युकी ,

ये रास्ता उसे फिर दोहराना चाहता हैं|

आज उन्ही रास्तो परएक बार फिर चलना हैं मुझे,

और जानना हैं खुदको क्युकी ,

इस रास्तेने फिरसे पहचान कराई हे मुझसे

क्युकी इस रस्तेने, फिरसे पहचान कराई हैं मुझसे ।


- हेतु

-Hetal

Read More

यकीन नही मुजपे तो , ख्वाब बनकर जी लुंगी तुजमे , मगर महेझ एक ख्वाब समजकर भूलना चाहोगे तो , यकीनन हकीकत बंजावूगी तुम्हारी ।
हेतु_✍😊

-Hetal

Read More

👫काफिला दोस्तो का 👫



काफिला ये शब्द ही कुछ ऐसा है मेरे लिए # सुकून कहों तो भी  अच्छा लगता हैं ।
हा मेरी हर एक लिखावट में मेरे दोस्तों की जलक नजर आती हैं। मेरी कविता का  वो बेहतरीनसा नगमा है ,तो मेरी कहानियों में  प्यार भरा एहसास हैं । ये तो बात हुई लिखावटों की और उसके शब्दों की इसमें कोई दोराय नही की किताब  के पन्ने पर लिखे गए एक एक अल्फाज दोस्तों केलिए होते हैं और जिंदगी के हर पहलू में वो मौजूद रहेते हैं मेरे दोस्त  । लेकिन जिनके इतने मायने है मेरे लिए तो क्यों नही में ये काफिले के बेहतरीन इंसान से एक छोटीसी मुलाकात करवा दु😍
  

चाय की चुस्कियां और सिगरेट के छल्ले उड़ाता ,
ये मेरा वो दोस्त जिनका स्कूलके वक़्तसे नाता जुड़ा,
नाम तो उसका जैन के ग्रंथ से रखा गया ,आगम
लेकिन मेरे लिए तो वो "अकड़ू" सा ही ठीक हैं ।
  
नवरात्रि के नों दिनों  केलिए ये दो ही काफि है 
बाकी के दिनों में ना भी  मिल सके तो उसके लिए माफी हैं।
नाम दोनो के एक जैसे थे परेश लेकिन ,
काम दोनों के बंदरों वाले । 😄

ये तो थे तीन जनाब की तारीफ अब मोहतरमा की तारीफ़ करते हुए की,

वो रंगोली के रंग की तरह थी जो दिवाली पर दिखते है,
उसी तरह ये मोहतरमा भी, कभी कभी हॅसते हुए दिखती थी,
सितारों जैसा नाम था उसका "ट्विंकल" लेकिन,
मुजे उसका नाम घंटी की तरह लेना पसंद था "टीन टीन"

हर इरादे पक्के मिलते है उसके,हर निशान सच्चे लगते 
लव मैरेजसे दूर मिलती, अरेंज में भाग लेती,
फिलिग्स  का कोई भी पिटारा हो ,
जाबी तो मेरी दक्षा के पास ही मिलती ।

किसी ने कहा था  की दोस्ती की इतनी सारि बाते कैसे लिखोगे इस छोटे खत में,
जवाब मे  बस इतना कहा की बेशक में दोस्ती के बारे में नही लिख सकती लेकिन दोस्त की कुछ बातें भी ना लिख सकी तो क्या फायदा लफ़्ज़ों के खेल का शोख रखने से। 
             
                                                                                        _  हेतु 

-Hetal

Read More

વિશ્વાસ જ સંબંધ માં શ્વાસ પુરી સંબંધ ને જીવંત રાખે છે સાહેબ બાકી વિશ્વાસ વગર તો પ્રાણી પણ પોતાના નથી માની શકતા, તો પછી માણસ પાસે તો લાગણી અને બુદ્ધિ બંને છે તો વિશ્વાસ વગર ની આશા કેમ રાખી શકો છો?
હેતુ_✍

-Hetal

Read More

एक पल में प्यार और दुसरे पल में दिल टूट जाता हैं, एक पल में खुश और दूसरे पल गम में होते हैं ,
एक ही पल में जैसे दुनिया पा ली हो और दूसरे ही पल में जैसे दुनिया लूट गई हो ऐसा कोई शख्स मिले तो समझने में जरा गौर फरमाएगा क्योंकि ये नाही इश्क़ के मारे नाही दिलके हारे होते हैं ये तो जनाब music के दीवाने होते हैं ।
हेतु_✍

-Hetal

Read More

dosti ki yaade😍

મૃત ? એટલે વાત મરેલા ની છે કે મારેલા ની,
મૃત તો ત્યારે કહી શકાય જ્યારે વિધાતા ના લેખ ત્યાગ કરાવે છે આત્મા ને શરીર નો ,
પણ સાહેબ
એને શું કહેશો જેના લેખમાં લાગણીઓ કારણ બની હોય સજીવન જીવનને મૃત તરીકે જીવવા માટે.

કહી શકશો કે એ વ્યક્તિ મૃત છે કે મૃતક?
#મૃત

Read More

દરીયા ની વાટે,
વાટે રહી,
તારી જ રાહ માં,
હું જ રાહી બની.
હેતુ_✍🏻☺️

કોઈનું બનવું હોય તો પેહેલા તેમની હિંમત બનો ને,
તેમની હિંમત ને તોડવાનું કારણ શું કામ બનો છો.
હેતુ_✍️
#હિંમત

Read More

राहें कई थी मेरी लेकिन मंजिल तुम्हे माना, गुजारिश कई थी खूदासे लेकिन इबादत में तुम्हे पाया, जिंदगी के सफ़र में कई मिले लेकिन हमसफ़र में सिर्फ तुम्हे चाहा ।
हेतु_✍️

Read More