Namak Ka Daroga by Munshi Premchand in Hindi Short Stories PDF

नमक का दरोगा

by Munshi Premchand Matrubharti Verified in Hindi Short Stories

पं अलोपीदीन स्तंभित हो गये गाड़ीवानो में हलचल मच गई पंडितजी के जीवन में यह पहला अवसर था की उन्हें ऐसी कठोर बातें सुनने को मिली बदलू सिंग आगे बढ़ा किन्तु...