tash ka aashiyana - 5 by R.J. Artan in Hindi Short Stories PDF

ताश का आशियाना - भाग 5

by R.J. Artan Matrubharti Verified in Hindi Short Stories

आज चित्रा ने सब खाली कर दिया जो भी गुबार था वो फट गया। उसका भी मन अब रेत की तरह हल्का होकर उडने लगा। “इसलिए तो उस दिन रोका नहीं तुम्हे?” एक निर्मोही पर दिल में काटे चुभोने ...Read More