Meri Bhairavi - 2 by निखिल ठाकुर in Hindi Spiritual Stories PDF

मेरी भैरवी - 2

by निखिल ठाकुर Matrubharti Verified in Hindi Spiritual Stories

2. विचित्र स्वप्न विराजनाथ गहरी नींद में सोया हुआ था। धीरे -धीरे उसकी निंद्रा इतनी गहरी होती हो गई उस मानों किसी भी चीज़ की सुधबुध ही नहीं रही हो...उसे इस बात से भी कोई भी आपति नहीं ...Read More