Vah ab bhi vahi hai - 22 by Pradeep Shrivastava in Hindi Novel Episodes PDF

वह अब भी वहीं है - 22

by Pradeep Shrivastava Matrubharti Verified in Hindi Novel Episodes

भाग -22 समीना, छब्बी उस समय घृणा की आग में धधकती एक मूर्ति सी लग रही थी। मुझे लगा कि, जैसे उसने मेरी सारी चोरी पकड़ कर दुनिया के सामने मुझे एकदम नंगा कर दिया है। मुझसे कुछ बोला ...Read More


-->