Vah ab bhi vahi hai - 32 by Pradeep Shrivastava in Hindi Novel Episodes PDF

वह अब भी वहीं है - 32

by Pradeep Shrivastava Matrubharti Verified in Hindi Novel Episodes

भाग -32 मैं कोशिश कर रहा था कि, मेरी आँखें एकदम सूख जाएं। एकदम पथरीली हो जाएँ, लेकिन जितना पोंछता वह उतना ही फिर भर आतीं। मुझे मौत के नाम के साथ-साथ इतनी विवशताभरी स्थिति पर रुलाई आ रही ...Read More