Do Muh Hasi by Deepak sharma in Hindi Short Stories PDF

दो मुँह हँसी

by Deepak sharma Matrubharti Verified in Hindi Short Stories

दो मुँह हँसी ’’ऊँ ऊँ,’’ सुनयन जगा है । बिजली की फुर्ती से मैं उसके पास जा पहुँचता हूँ । रात में उसे कई बार सू-सू करने की जरूरत महसूस होती है । जन्म ही से उसकी बुद्धि दुर्बल ...Read More


-->