इश्क़ जुनून - 3 in Hindi Love Stories by Mehul Pasaya books and stories Free | इश्क़ जुनून - 3

इश्क़ जुनून - 3

" अच्छा सुनो विवान मुझे ना भूक बहुत लगी है सो प्लीज किसी अच्छी होटल मे जाते है "

" ठीक है सर पर पहले रहने का बन्दोबसत कर ले फिर वहा ही मन्गा लेन्गे ऑनलाइन ठीक है "

" ओके नोट बैड "

[कुच समय बाद...]

" प्रिया... अरे ओ प्रिया जल्दी आओ प्लीज हैल्प मी "

" हा हा क्या हुआ दी चिला क्यू रहे हो इतना ज्यादा "

" चुहा है वहा मुझे इसे बहुत दर लगता है प्लीज भगाओ उसे "

" ओहो दी आप भी ना एक छोटा सा चुहे से दर रही हो "

" अरे प्लीज भगाओ ना प्लीज अभी भी यही है वोह "

" ओके बाबा रुक हेय छू छू भाग यहा से मेरि प्यारी सी दी को परेशान करता है भाग यहा से "

" देखा भाग गया ना दी तुम भी ना ऐसे थोडी दरते है चूहो से "

" हास थैंक यू भगा दिया उसे "

" ओके अब चल मॉम बुलायेगी अभी अगर वक़्त पर हम डिनर टेबल पे नही गये तो "

" हा ठीक है चल "

" मॉम हम आगये "

" हा अच्छा हुआ आगये वरना अभी चिला ने वाली थी आज टाईम आगये हो अच्छी बात है "

" ओके मॉम अबसे ऐसे ही बिल्कुल वक़्त पर ही आयेंगे ओके "

" ठीक है "

" अरे प्रियु तुम अपनी कॉलेज मे कहा तक आये हो तुमने मुझे अभी तक कुच बतया नही "

" अरे दी आपको पता तो है सब और क्या बताऊ मे "

" अरे मेने ये पुछा की वहा आज क्या करने वाली हो  ऐसा पुछा "

" हा वोह कुच फाइल्स तयार करनी है और ड्रॉइंग भी लेजानी है "

" तुम बताओ अपना "

" कमाल है ये लड़कियां भी दोनो एक ही कॉलेज मे जाते है फिर भी एक दुसरे का कुच पता नही "

" अरे मॉम तुम्हे तो पता है की प्रियु ना मुझे कुच भी नही बताती ऐसे मे मे उसके साथ मे भी रहती हू पर पता तो नही चलेगा ना जब तक बताईगी नही "

" प्रिया बेता ऐसा क्यू होता है की तुम्हे अपनी खुद्की बहेंन से प्राईवेटी रखनी पडती है ,वाई "

" अरे मॉम ऐसा नही है दरसल बात येह है की दी ना मुझे कुच नही बताती मेने भी तय किया था की मे भी नही बताऊंगी बस और कुच नही "

" हे भगवान पता नही इन दोनो मे कब अक्कल आयेगी पता नही तुम दोनो अभी के अभी एक दुसरे को प्रोमिस करो की एक दुसरे कुच भी नही छूपाओगे और तुम दोनो को पता भी है की अगर कुच अलग हालतों पर अगर हम अपनो को अपनी समश्या नही बतायेंगे तो कित्नी बडी मुसीबत आ सकती है "

" सॉरी मॉम अबसे ऐसा नही करेंगे अब हम दोनो हर वोह बात शेयर करेंगे जो हमे करनी चाहिये "

" हा मे प्रोमिस करती हू दी से की अबसे मे सब बताऊंगी दी ओके दी अब कियो सीक्रेट बात नही रहेगी हमारे बिच मे ओके "

" हा प्रियु हम भी प्रोमिस करते है की अब से कुच भी नही छुपायेंगे आपसे ओके "

" वोव गुड गिर्ल्स ये हुए ना बात "

[कुच समय बाद...]

" अच्छा सुनो तुम दोनो यही रुको मे अनदर जाके कन्फर्म करता हू सब ओके "

" जी अंकल "

" और हा अंकल अनदर जाके सब चेक भी कर लेना की सब सही है ना कुच कमी नही रहनी चाहिये ओके "

" अरे आप बेफिक्र रहिये बेटाजी हम सब देख लेंगे ओके "

" ओके जाइये अब "

" जी "

" हा सर बताईये आप कितने लोग है और कितने दिन रहने वाले है नाम पता सब इस फॉर्म मे भर दिजीये "

" जी ठीक है "

               To be continue...