Unfortunate Love in Hindi Love Stories by Veena books and stories PDF | अनफॉरट्यूनेटली इन लव - ( नॉर्वे विजिट_२) 25

अनफॉरट्यूनेटली इन लव - ( नॉर्वे विजिट_२) 25

पूरा स्टेडियम लोगो से भर चुका था। सुबह 11 बजे सितारों की चमक में एशियाई सिंगल्स का कॉम्पिटिशन शुरू हुवा। बड़ी सी स्क्रीन पर कंप्यूटर के द्वारा प्रतिद्वंदी चुने गए। जापान से सोलो टीम के 3 और के एंड के से 2 इस तरह 5 स्पर्धक आए थे। स्पर्धा शुरू हुई, धीरे धीरे कोई जीत की तरफ आगे बढ़ रहा था, तो किसी का हौसला टूट रहा था। उन पांचों मे भी DT हाई स्कोरर था, तो मैक्स पूरे कॉम्पिटिशन मे सबसे कम स्कोर करने वाला स्पर्धक था। शाम तक सोलो टीम से ऑल ने एशिया मे तीसरा स्थान पा लिया था। अब स्पर्धा सिर्फ न्यू यॉर्क से आए नोवा और जापान के DT के बीच थी। एक आधे घंटे के ब्रेक के बाद कॉम्पिटिशन का अंतिम चरण शुरू होने वाल था।
एप्पल डॉग ने उसे हर जगह ढूढा। आखिरकार वो उसे मिला। DT सबसे अलग स्टेज के पीछे एक कोने मे कानो मे हेड फ़ोन डाले बैठा था।

" अभी भी तुम्हारी आदत बदली नही है। हमेशा कॉम्पिटिशन से पहले सबसे अलग बैठ जाते हो।" एप्पल डॉग उसके पास जाकर बैठ गई।

" इसी तरह में अपने आप को शांत करता हु। किसी भी कॉम्पिटिशन में सबसे ज्यादा जरूरी है मेरे लिए।" DT।

" मुझे पूरा यकीन है, तुम जीतोगे।" एप्पल डॉग।

" मुझे ये जितना है, जापान के लिए। मेरे भाई के लिए और सब से ज्यादा तुम्हारे लिए।" DT के कहे इन लब्जो ने उसे अलग मझदार मे छोड़ दिया था। वो बस उसे देखे जा रही थी। हमेशा चुप रहने वाला लड़कियों से दूर रहने वाला लड़का इतनी दिल छूने वाली बात कर देगा, उसने सोचा भी नही था। कोई उसके लिए भला ये क्यों करना चाहेगा।

" पर क्यों ?" एप्पल डॉग ने पूछा।

" में 12 साल का था, जब भाई के पास आया था। तभी मैंने तुम्हे देखा था। तुम मेरी आइडल हो। में तुम्हे पसंद करता था, हु और करता रहूंगा। तुम्हारी जगह कोई नही ले सकता। आज रात में तुम्हारी नजरो मे बस खुदको देखना चाहता हु। इसीलिए मुझे ये कॉम्पिटिशन जितना है। हमारे लिए आई चू।" DT।

उसे DT का साथ पसंद था। वो जानती थी, की DT उसे पसंद करता है। वो जब से उसे मिला था, उसने कभी ये बात नही छिपाई। अपने किसी जज़्बात को नहीं छिपाया। पर जब एप्पल डॉग को पता चला कि वो शंग्यान का भाई है। उसने डीटी से दूरी बना ली। क्या वो गलत थी? उन दोनो मे दस साल का अंतर है। वो अपने दोस्त के भाई के साथ ऐसे संबध कैसे रख सकती है। इन सभी चीजों के ऊपर DT ने उसे झूठ बोला था, उसका प्यार पाने के लिए। जिसे वो अब तक भूल नही पाई है।

" तुम्हे ये जापान के लिए और अपने भाई के लिए करना होगा। ऑल द बेस्ट। मुझे यकीन है, तुम जीतोगे।" इतना कह एप्पल डॉग वहा से चली गई।

हर बढ़ते समय के साथ नियान की सांसे बढ़ रही थी। 1 मिनट बाकी था और DT 3 नोड पीछे था। उसने 10 सेकंड के भीतर कुछ ऐसा दाव खेला के सामने वाला पूरा ब्लॉक हो गया। वक्त खत्म होने से पहले कॉम्पिटिशन DT जीत चुका था। हान शंग्यान की हंसती छबि पूरे स्टेडियम में हर स्क्रीन पर घूम रही थी। नियान ने अपना मोबाइल लिया और उसे फोन लगाया।

" हैलो।" गन।

सामने से खिल खिलाती आवाज सुन नियान रो पड़ी।
" हैलो। शंग्यान। मुबारक हो। मुझे यकीन था हम ही जीतेंगे।"

" शुक्रिया। तालिया सुनना चाहोगी।" गन ने मोबाइल पूरे स्टेडियम की तरफ घुमाया। " जापान, जापान" का शोर पूरे स्टेडियम मे घूम रहा था। " सुनो सेरेमनी खत्म होने के बाद कॉल करता हु। बाय ।" उसने फोन रख दिया।

" आ..…....... ये................. मॉम डैड।" नियान चीखती हुई नीचे अपने माता पिता के पास भागी।

" ओह...पागल लड़की। क्या हूवा डरा दिया मुझे।" उसके पिता ने पूछा।

" हम जीत गए डैड। हान शंग्यान जीत गया। एशियाई सिगल कॉम्पिटिशन। वू बाई ने जीत लिया। K एंड K बेस्ट है। हान शंग्यान बेस्ट है।" उसने खुशी के मारे उछलते हुए कहा।

" एक खेल जितने मे क्या बड़ी बात है।" नियान की मां अभी भी शंग्यान से खुश नहीं थी।

" वो एशियाई मतलब पूरे एशिया में । वाउ । ये बोहोत खुशी की बात है। उसने जापान के लिए बोहोत अच्छा काम किया है। मेरी तरफ से उसे मुबारक कहना।" अपने पिता की बात सुन वो खुश हो गई।

" हा । अब में सेरेमनी देखने जा रही हु। " नियान फिर अपने कमरे मे चली गई।
" हनी। उसे एक मौका दो। अपनी बेटी को देखो वो कितनी खुश होती है। उसके साथ। उन्हें साथ रहने दो।" उसके पिता की बात सुन नियान की मां कुछ कह नहीं पाई।

यहां प्राइज डिस्ट्रीब्यूशन सेरेमनी में पहला और तीसरा दोनो स्थान जापान को जाने की वजह से अलग खुशी का मौहौल बन चुका था। क्लब पोहोचते ही हान शंग्यान ने शैंपियन की बोतल खोली और सब के साथ जश्न मनाया। जल्द ही सारे विजेताओके इंटरव्यूज हुए ये वही वक्त था जब उसे कुछ वक्त खुद के लिए मिला। एक न्यूज रिपोर्टर उसके पास आकर इंटरव्यू की जिद्द करने लगी। उसने बड़े ही प्यार से सिर्फ एक बात कही, " आज का दिन विजेताओं का है, मुझपर अपना वक्त मत बरबाद करो।" और फोन निकाल कर वो बाहर की ओर चला गया। उसने फोन मिलाया।

" हेलो, पढ़ाई कर रही हो ?" गन।

उसका फोन देख के नियान खुशी से उछल रही थी, " हेलो। नही अभी बस सेमिस्टर स्टार्ट हुई है। तो प्रोजेक्ट के बारे मे सोच रही थी।"

" ओ। में सोच रहा था, तुम्हे कुछ चाहिए तो बताओ में लेकर आवुंगा तुम्हारे लिए।" गन।

" नही नही। में बस बोहोत खुश हू , मुबारक हो। अब अपना जन्मदिन अच्छे से मनाना।" नियान।

" अच्छे से मतलब कैसे ?" गन।

" मतलब अपने दोस्तो के साथ पार्टी करो। घूमो। बस कुछ देर के लिए तुम्हारी जिम्मेदारियों को भूल जाओ। अपने लिए जिओ।" नियान " सॉरी।"

" सॉरी। क्यों ?" गन।

" मुझे जो लगा वो मैने कहा कुछ ज्यादा बोल दिया हो उस के लिए।" नियान।

गन को इस बात पर काफी हसी आ रही थी। पर एक मुस्कान के साथ उसने खुद को रोक लिया। " तुम्हे सच में कुछ नही चाहिए ?"

" नहीं। बस जल्दी लौट आओ। फिर मिलेंगे।" नियान।

" जरूर। मुझे जाना होगा अब। बाय।" गन।

" हैप्पी बर्थडे अगेन। तुम्हे कुछ तस्वीरे भेज रही हु जरूर देखना। बाय।" नियान।

पाच मिनट के भीतर गन के मोबाइल पर 5 तस्वीरे आई। मोमबतियो से सजा हुवा एक केक। केक के साथ खड़ी नियान। एक सुदर सी सफेद ड्रेस पहने हुई नियान की अकेली तस्वीर और केक काटते हुए उसकी कुछ तस्वीरे। एक मैसेज के साथ, "बिल्कुल ऐसे ही मनाओ तुम्हारा जन्मदिन, जैसे में मना रही हु। बाय। "

" अब में बिलकुल नहीं देख सकता।" मैक्स ने पीछे से उसके कंधे पर हाथ रखा।

" जब ऑल ने मुझे बताया तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है। मुझे सच में लगा की तुम मुझे धोखा नहीं दे सकते ये लोग मुझे भड़का रहे है। पर अब तुम्हे देख के लगता है, में गलत था।" मैक्स।

" मैने कहा था, इस हैंडसम पर कभी भरोसा मत करना। में तो ऊस टूर्नामेंट मे देख कर समझ गया था, भाभी अंदर आई । उसने सब को देखा, फिर चुपचाप जाकर K एंड K मे बैठ गई। लेकिन तभी किसीने उसे इशारा किया और अपने पास बिठाया। मतलब समझे झगड़े की वजह से हमे पता चला कि फेमस हान शंग्यान पहले से ही रिश्ते मे है।" ऑल।

" अब चुप भी हो जाओ। बस पाच मिनट भी किसी से बात नही कर सकता क्या?" गन की मुस्कान रुकने का नाम नहीं ले रही थी।

" नही। पाच मिनट से ज्यादा बात करो। पर जिस तरह मुस्कुराते हुए बात कर रहे थे वैसे गन किसी से बात नही करता।" मैक्स।

" उस से करता हु। करनी पड़ती है।" गन ने हंसते हुआ कहा।

" वो........." मैक्स और ऑल दोनो ने एक साथ आवाज लगाई।

" चलो आज मेरी तरफ से पार्टी है। सिर्फ तुम दोनो के लिए चले।" गन ने दोनो के कंधे पर हाथ रखा और वो तीनो चल पड़े।

Rate & Review

Kamla Rajput

Kamla Rajput 1 year ago

Veena

Veena Matrubharti Verified 1 year ago

Varsha Shah

Varsha Shah 1 year ago