Unfortunate Love in Hindi Love Stories by Veena books and stories PDF | अनफॉरट्यूनेटली इन लव - ( बदलाव_२) 27

अनफॉरट्यूनेटली इन लव - ( बदलाव_२) 27

डेमो ने कॉल उठाया। " हेलो।"

" डेमो। क्या तुम सब ने खाना खाया ???" गन।

" नही बॉस। खाना बस अभी अभी आया है।" डेमो।

" ठीक है। सब को खाने के साथ यहां मीटिंग रूम बुला लो। साथ मे दो खाने के बॉक्स एक्स्ट्रा ले आना।" गन ने फोन रख दिया।

" क्या हुवा ऐसा क्या कहा बॉस ने ?" पास मे खड़े ग्रंट ने पूछा।

" उन्होंने सबको खाने के साथ मीटिंग रूम मे बुलाया है।" डेमो।

लडके मीटिंग रूम मे पोहोचे इस से पहले गन ने नियान को उठा दिया। " में उस के सामने कैसे सो सकती हू???" ये सोच सोच कर वो शर्म से लाल हुई जा रही थी। तभी 97 के साथ बाकी टीम के सदस्यों ने वहा कदम रखा।

" बॉस आपने हमे यहां क्यों बुलाया?" 97 ने पूछा।

" यहां बैठो और साथ मे खाना खाओ।" गन ने अपनी जगह से खड़े होते हुए कहा।

" साथ मे।" लड़को मे हर कोई सोच मे पड़ गया।

" बॉस शायद कुछ नया सिख रहे है। बैठ जाओ।" ग्रंट ने सब को बोर्ड पर लिखे वो शब्द दिखाए " अंदर आओ " जो गन ने नियान को बुलाने के लिए लिखे थे। उसे देखते ही लड़को ने एक साथ " ओह......." करते हुए बैठने के लिए जगह चुनी।

डेमो नियान के पास बैठा था।

" भाभी ये मेरा पसंदीदा खाना है। आप इस पर अपनी राय दीजिए।" डेमो ने बॉक्स नियान के सामने रखा। एक प्यारिसी मुस्कान के साथ नियान ने वो बॉक्स खोला फिर एक नजर गन की तरफ डाली।

गन अपनी जगह से उठ कर , उस के और डेमो के बीच मे रुक गया।

" डेमो जहा तक मुझे याद है, आखरी परीक्षा मे तुम्हारा स्कोर २२१/१ आखिर से तीसरा था ना।"

" बॉस। मेरे पीछे भी दो लड़के थे, आप मुझ पर ही निशाना क्यो लगा रहे है।" डेमो ने गर्दन नीचे करते हुए कहा। ग्रंट और 97 ने एक दूसरे की तरफ कुछ इशारे किए, जिनका साफ साफ ये मतलब था की बॉस भाभी के सामने बढ़ाई कर रहे है।

" क्या ये उस स्पीड टेस्ट के बारे मे है।" नियान ने पूछा। गन ने सिर्फ गर्दन हिला कर हा भरी।

" वाउ। २२१ पर १ सेकंड। ये तो बोहोत अच्छा रिजल्ट है।" नियान।

" सच मे भाभी। मुझे तो पता ही था। I m awesome।" डेमो फिर से मुस्कुराते हुए खाना खाना शुरु किया।

" तो क्या तुम लोग हर वक्त ऐसी ही परिक्षा ये देते रहते हो।" नियान ने गन से पूछा।

" नही। वो सॉफ्टवेयर यहां अवेलेबल नही है। हमे अमेरिका से उसका डुप्लीकेट मिला है, जो अक्सर काम नही करता। जब कभी भी जरूरत हो तो हम एक एक्सपर्ट बुला कर ऐसी परिक्षा ये पूरी करते है।" गन ने अपनी जेब से टॉफी का डिब्बा निकालते हुए कहा। वो वही नियान और डेमो के आस पास चक्कर लगा रहा था। जैसे ही उसने वो डिब्बा खोला उसके हाथ मे वो हरी वाली टॉफी आई। नियान की पसंदीदा। उसने उस टॉफी को देखा। फिर नियान को देखा, वो उसे ही देखे जा रही थी। उसने अब तक खाना भी शुरू नही किया था। गन ने हरी टॉफी टेबल पर उसकी तरफ फेंकी। नियान ने तुरंत उस टॉफी को लिया और मुंह मे डाला। लड़को ने ये हरकत देखते ही पूरे मीटिंग रूम मे कॉमेंट शुरू कर दिए।

" हाउ स्वीट।"

" लव गेम हा बॉस।"

" ओह.... क्यूट।"

" तो हमे आज ये सिखाने बुलाया गया है।"

नियान का पूरा चेहरा शर्म से लाल हुवा जा रहा था। उसे देख गन ने लड़को को चेतावनी दी। "अगर तुम लोगो का खाना खत्म हो गया हो, तो जाकर ट्रेनिंग कर लो।"

लड़को ने फिर से सर झुका कर खाना शुरू किया।

" क्या मुझे इस साफ्टवेयर के बारे मे और कुछ पता लग सकता है।" नियान ने गन से पूछा।

" 97।" गन ने इशारा किया।

" येस बॉस। भाभी ये एक परीक्षण सॉफ्टवेयर है। इसमें आपको एक मिनिट के भीतर अपनी उंगलियोकी स्पीड दिखानी है। स्क्रीन पर नीला और काला दो रंग आपकी स्पीड के हिसाब से बदलते रहते है। हमारे कैप्टन और बॉस के कसीन वु बाई अब तक जापान मे सब से तेज है। ११/१ की स्पीड के साथ।" 97 ने उसे विस्तार से समझाया।

" अच्छा । तो क्यों ना हम इसका कोई अपडेट वर्जन बनाए। जिसमे बोहोत सारे रंग हो, क्यो की सिर्फ दो रंग आखों को चुभेंगे।" नियान ने कहा।

" ऐसा सॉफ्टवेयर अमेरिका मे है। लेकिन यहां नही।" वु बाई ने कहा।

" अगर तुम चाहो तो में उसे बना सकती हू। साथ ही मे उसमे स्कोर टेबल भी जोड़ दूंगी ताकि तुम्हे परिणाम देखने मे आसानी हो।" नियान ने गन की तरफ सर घुमाते हुए कहा।

शुरुवात से उसके आस पास चक्कर लगाता हुआ गन। अब उसके पास ही टेबल पर बैठ गया। " ये कहना आसान है, करना मुश्किल।" उसने नियान के पास जाते हुए कहा।

" कुछ मुश्किल नहीं है, में कंप्यूटर्स की स्टूडेंट हु। तुम चाहो तो अभी बना सकती हू।" नियान ने उसकी आंखो मे देखते हुए कहा।

" अब इसी की कमी थी, हमे सताने के लिए बॉस के हाथो मे एक नया खिलौना। उन्हे रोको ग्रंट।" 97 ने ग्रंट के कानो मे कहा।

" नही भाभी। इसकी कोई जरूरत नही है। हम आपको परेशान नहीं करेंगे।" ग्रंट की ना मे सारे लड़को ने अपनी सहमति जताई।

" नही। सच मे । में बना सकती हू। कोई परेशानी नहीं होगी।" नियान ने उन्हें समझाने की कोशिश की।

" ठीक है। तुम बनाओ। में खुद उसे आजमावूंगा।" गन ने उसके सर पर हाथ रखते हुए कहा।

सब लड़को ने अब चुप चाप खाना खाना ही सही समझा। खाना खाने के बाद गन ने खुद नियान को उसके कॉलेज हॉस्टल छोड़ा।

" जैसे ही सॉफ्टवेयर पूरा हो जायेगा में कॉल करूंगी। गुड बाय।" नियान।

" हा मुझे इंतेजार रहेगा। बाय।" गन वापस अपने क्लब लौट गया।

क्या कोई झूठा रिश्ता भी इतनी खुशी दे सकता है???
पर इनका रिश्ता झूठा नही है। बस उसे बनाते वक्त एक छोटा सा झूठ बोला जरूर गया था। लेकिन क्या अब उस झूठ की जरूरत नही। नियान पहली बार इस तरह लाल होकर चहक रही थी। अपने 19 साल के जीवन मे पहली बार पढ़ाई के अलावा वो लोगो से जुड़ रही थी। तो वही अब गन भी बिना वजह मुस्कुराना सीख रहा था। कहते है ना कभी कभी आप बदल जाते है, और आप को पता भी नही चलता। यहां भी मौसम और रिश्ते बदल रहें थे।

Rate & Review

Veena

Veena Matrubharti Verified 1 year ago