Unfortunate Love - 28 in Hindi Love Stories by Veena books and stories PDF | अनफॉरट्यूनेटली इन लव - ( ब्रेक अप_१) 28

अनफॉरट्यूनेटली इन लव - ( ब्रेक अप_१) 28

पूरा हफ्ता ट्रेनिंग मे निकल गया। शनिवार की सुबह से सब लड़के छुट्टी पर थे। सु चैन अपनी बेटी को मनाने की पूरी कोशिश कर रही थी। पर १२ साल की सिया ने अपनी मां के साथ जाने से मना कर दिया। तब गन ने उस से शर्त लगा कर मेले मे जाने के लिए मना ही लिया। तभी उसे नियान का मैसेज मिला की सॉफ्टवेयर तैयार है। वो उसे कब जांचे गा???? गन ने सिर्फ उसे, उसके होस्टल के बाहर इंतेजार करने की सलाह दी।

सु चैन और सिया को लेकर गन नियान के होस्टल पोहचा।

" कही बाहर जा रहे हो।" नियान ने उसे पूछा।

" हा तुम भी साथ आ रही हो।" उसने नियान से कहा।

" मेरा साथ चलना सही होगा क्या???" नियान ने सु चैन और सिया की तरफ देखते हुए कहा।

" क्या तुम्हे बच्चे पसंद है?" गन ने पूछा।

" हा।"

" क्या तुम्हे आज छुट्टी है?" गन।

" हा।"

" फिर मेरी गर्लफ्रेंड के हक से तुम्हारा हमारे साथ चलना सही होगा। चलो चले।" गन ने नियान का हाथ पकड़ा और उसे अपने साथ ले गया।

चारो ने पूरा दिन मेले मे बिताया। डर की वजह से गन ने कोई भी राइड नही ली। नियान की नजर पूरे वक्त बस गन को देखे जा रही थी। ये देख ना रहते हुए सिया ने पूछा।

" पता नही आप को वो इतना क्यों पसंद है दी???" सिया।

" ये सब समझ ने के लिए अभी तुम छोटी हो।" नियान ने कहा।

" आप से तो ज्यादया ही बड़ी हूं मे इन मामलों मे। चलो आपको उस के साथ कुछ अकेला वक्त देती हु।" सिया ने फिर चिल्ला कर गन की तरफ देखा। " शंग्यान जाओ दो टिकेट्स लेकर आओ बोट राइडिंग की।"

फिर उसने उन दोनो को अलग बोट मे भेजा और खुद अपनी मां के साथ अलग बोट मे बैठी।

" तुम्हे तस्वीर खींचनी है। " गन ने नियान से पूछा।

" नही।"

" यहां सारे कपल वही कर रहे है।" गन।

" हा । पर मुझे इतना शौक नही है तस्वीरों का। रहने दो।" नियान ने मना कर दिया।

" दी। वहा जाओ।" दूसरी बोट से सिया ने आवाज लगाई। गन और नियान की कपल फोटोज लेना शुरू कर दिया।

उस के बाद तो पूरा वक्त गन उसे वो फोटोज डिलीट करने के लिए डाट रहा था। लेकिन सिया भी जिद्द पर थी की वो नही डिलीट करेगी। ऐसे ही हसी खुशी उनका दिन गुजर गया। शाम को सात बजे गन ने सु चैन और सिया को सोलो के हेडक्वार्टर ड्रॉप किया।

सिया सु चैन और सोलो की नाजायज बेटी थी। जिसे सोलो से ब्रेक अप के बाद 1.5 साल सु चैन ने अकेले पाला। लेकिन जब उसे सिया की कान की बीमारी का पता चला तब उसके पास सोलो के पास लौटने के अलावा और कोई रास्ता नही था। उसने सोलो को सब बताया। उस वक्त वो और उसकी टीम्स नैशनल फाइनल्स मे थे। एप्पल डॉग उस वक्त सोलो की गर्लफ्रेंड थी। जैसे ही उसे सोलो की नाजायज बेटी के बारे मे पता चला, उसने टीम छोड़ने का निर्णय लिया। सोलो भी अपनी औलाद को अकेला नहीं छोड़ना चाहता था, उसने भी आखरी मैच के बाद टीम छोड़ने का निर्णय लिया। उस वक्त सु चैन के वापस आ जाने से गन की पूरी टीम बिखर चुकी थी। ऐसे मे गन ने बात कर हर किसी को नैशनल तक रोका। आखरी मैच जीतने के बाद टीम का गुडविल बचाने के लिए गन ने रिटायरमेंट ली। एप्पल डॉग जापान छोड़ चीन चली गई और सु चैन और सोलो ने शादी कर अपनी बच्ची को नाम दिया। लेकिन क्यों की ये कांट्रेक्ट मैरिज थी। सिया के ऑपरेशन के 3 महीनो बाद सु चैन उसे और सोलो को छोड़ नॉर्वे चली गई। जहा कुछ सालो बाद उसकी मुलाकात फिर से गन और गन के दोस्त रॉबर्ट से हुई। कुछ ही साल मे उन दोनो ने शादी की और अब तक खुशी खुशी रह रहे है। बस पिछले ही साल गन सु चैन के साथ वापस जापान आया। अपनी नई ब्रांच यहां खोलने।

सिया दौड़ते हुए अपने पिता के पास पोहची।

" डैड। ये देखो में किस के साथ गई थी ।" उसने हान शंग्यान की सारी फोटोज अपने पिता को दिखाई। उस वक्त मैक्स और ऑल भी वही थे।

" आ....... गन का अच्छा है। अब उसे घुमाने वाला कोई मिल जो गया है।" ऑल ने कहा।

" देखा कैप्टन कहा था ना मैने, वो लड़की उस के लिए खास है।" मैक्स ने सोलो से कहा।

" हा यकीनन खास है।" सोलो ने हंसते हुए सिया को देखा।

" डैड ये दीदी बोहोत अच्छी है। उन्होंने मुझे प्रॉमिस किया है, वो वापस मेरे साथ घूमने चलेंगी। हमने अपने नंबर्स भी एक्सचेंज किए। क्या में वापस उनके साथ जा सकती हू?" सिया ने पूछा।

" अरे बेबी। उन्हे दीदी नही आंटी कहो। वो हमारी होनेवाली भाभी है।" मैक्स ने कहा।

" हा । उस का कुछ किया नही जा सकता। वो सच मे इस बुद्धू को पसंद करती है।" सिया ने कहा।

" धत.... अंकल के बारे मे ऐसा नहीं कहते। तुम थक गई होंगी ना?? जाओ डैड के कैबिन मे रेस्ट करो। बाद मे साथ घर चलेंगे।" सोलो ने उसे अंदर भेज सु चैन से विदा ली।

" अब हम कहा जा रहे है??" गाड़ी मे बैठी नियान ने पूछा।

" ७ बजे है, तुम्हारा सॉफ्टवेयर कितना वक्त लेगा?" गन।

" इसे इंस्टॉल होने मे एक घंटा लगेगा।" नियान।

" तुम्हे घर कितने बजे तक जाना है?" गन।

" ९ बजे तक कोई परेशानी नहीं है।" नियान।

" ठीक है। क्लब चलते है। फिर टेस्टिंग कर के तुम्हे ९ बजे तक घर छोड़ दूंगा।" गन ने गाड़ी घुमाई और सीधा उसे क्लब ले गया।

" आज क्लब इतना शांत क्यो है???" नियान ने आस पास देख कर पूछा।

" आज शनिवार है। कोई कर्फ्यू नही है। इसीलिए लड़के बाहर होंगे।" गन ने कहा।

" यहां कर्फ्यू भी होता है। " नियान।

" हा जब तुम्हे १६ से १९ साल तक के जवान लड़को को संभालना हो तो कर्फ्यू लगाना पड़ता है।" गन ने पहली मंजिल का मेहमानो वाला कमरा खोला।

" ये मेहमानो वाला कमरा है। इस कंप्यूटर को इस्तेमाल कर सकतीं हो। अगर किसी चीज की जरूरत हो तो में पास वाले कमरे मे हू। एक घंटे बाद मिलते है।" ये कह कर वो वापस जाने मुड़ा।

" लेकिन में तुम्हारे साथ आना चाहती हू। तुम क्या करोगे? में हेल्प करना चाहती हू।" नियान की बाते सुन वो उसी जगह रुक उसे देखने लगा।

" अच्छा मतलब तुम मेरे साथ मेरे कमरे मे इस वक्त आना चाहती हो। में सोच रहा था, १० मिनिट शॉवर लूंगा, और बाद मे ५० मिनिट की नींद। क्या अब भी मदद करना चाहोगी???"